पुराने अंदाज में दिखें लालू यादव, कांग्रेस के गठबंधन तोड़ने पर कहा- जमानत जब्त कराने के लिए हम दे दें सीट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 24, 2021   17:47
पुराने अंदाज में दिखें लालू यादव, कांग्रेस के गठबंधन तोड़ने पर कहा- जमानत जब्त कराने के लिए हम दे दें सीट

लालू प्रसाद यादव ने कांग्रेस के गठबंधन तोड़ने पर कहा कि क्या होता है कांग्रेस का गठबंधन?” उन्होंने कहा, “क्या हमें एक सीट (कांग्रेस को) हारने के लिए देनी चाहिए? जिससे वह अपनी जमानत भी गंवा सके?”

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने रविवार को कांग्रेस की निंदा की और एक सहयोगी के रूप में पार्टी की उपयोगिता पर सवाल उठाते हुए हैरानी जताई कि क्या उनकी पार्टी को विधानसभा की एक सीट राष्ट्रीय पार्टी के लिये छोड़ देनी चाहिए ताकि कांग्रेस वहां से अपनी जमानत भी गंवा सके। राज्य में इस सीट के लिए उपचुनाव होने वाला है। लालू से जब पूछा गया कि विधानसभा की दो सीटों पर हो रहे उपचुनाव में उनकी पार्टी राष्ट्रीय दल को एक सीट नहीं दे रही है तो ऐसे में क्या इसे एक तरह से गठबंधन में टूट के तौर पर देखा जाए, उन्होंने पलटकर पूछा, “क्या होता है कांग्रेस का गठबंधन?” उन्होंने कहा, “क्या हमें एक सीट (कांग्रेस को) हारने के लिए देनी चाहिए? जिससे वह अपनी जमानत भी गंवा सके?”

इसे भी पढ़ें: लंबे अरसे बाद पाटलिपुत्र की धरती पर लालू रिटर्न्स, बिहार में बढ़ेगी सियासी हलचल

उन्होंने कांग्रेस नेता भक्त चरण दास का भी उपहास किया जो पार्टी के बिहार प्रभारी हैं और राजद पर निशाना साधते रहे हैं। दास ने हाल ही में कहा था कि कांग्रेस अब राज्य में राजद के नेतृत्व वाले गठबंधन का हिस्सा नहीं है। कुशेश्वर स्थान से अपने उम्मीदवार को मैदान में उतारने के राजद के फैसले ने कांग्रेस को नाराज कर दिया है। कांग्रेस ने 2020 में इस सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा था। विधानसभा चुनावों में राजद के बेहतर स्ट्राइक रेट की तुलना में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन ने लालू की पार्टी के नेताओं के एक वर्ग को गठबंधन में राष्ट्रीय पार्टी की भूमिका पर सवाल उठाने का मौका दे दिया है। राजद का मानना है कि कांग्रेस को उसकी वास्तविक क्षमता से ज्यादा संख्या में सीटें दे दी गई थीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।