भूमि विवाद को लेकर तेलंगाना में महिला वन अधिकारी पर हमला, TRS विधायक का भाई गिरफ्तार

land-dispute-over-land-dispute-attack-of-women-forest-officer-in-telangana-brother-of-trs-legislator-arrested
अस्पताल में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान अनिता ने बताया कि उन पर पहले कृष्ण ने लाठी से हमला किया, बाद में अन्य लोगों ने उन पर हमला किया। तेलंगाना के प्रधान मुख्य वन संरक्षक पी. के. झा ने कहा कि अधिकारी जिस जमीन पर पौधे लगा रहे थे वह वन विभाग की भूमि है और विधायक को इस संबंध में सूचना दे दी गई है।

हैदराबाद। तेलंगाना में भूमि विवाद को लेकर कोमराम भीम असिफाबाद जिले के एक गांव में वन विभाग की एक महिला अधिकारी पर रविवार को कुछ लोगों ने हमला कर दिया, जिसमें वह घायल हो गई। इस घटना के सिलसिले में टीआरएस के एक विधायक के भाई को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस अधीक्षक मल्ला रेड्डी ने बताया कि इस घटना के सिलसिले में टीआरएस विधायक कोनूरु कन्नप्पा के भाई कोनेरु कृष्ण को गिरफ्तार किया गया है और उस पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि हमले में वन अधिकारी सी. अनिता को चोट लगी है और वह अस्पताल में भर्ती हैं।

इसे भी पढ़ें: तेलंगाना में कांग्रेस विधायक TRS में चले गये, हो सकता है मध्यप्रदेश में भी ऐसा हो जाये

उन्होंने बताया कि सरकार की ‘हरित हरम’योजना के तहत अनिता सारसाला गांव में पौधे लगाने गई थीं। इस दौरान कृष्ण के नेतृत्व में गांव के कुछ लोगों ने जमीन पर अपना मालिकाना हक होने का दावा करते हुए उन पर लाठियों से हमला कर दिया। हमले के सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो में देखा जा सकता है कि अनिता हमले से बचने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़ रही हैं और कृष्ण तथा गांव के अन्य लोग ट्रैक्टर पर भी हमला कर रहे हैं। एक अज्ञात व्यक्ति महिला अधिकारी की पिटाई करता हुआ भी दिख रहा है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस सिर्फ तेलांगना नहीं बल्कि पूरे देश में नेतृत्वहीन एवं दिशाहीन हो गई है: टीआरएस

अस्पताल में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान अनिता ने बताया कि उन पर पहले कृष्ण ने लाठी से हमला किया, बाद में अन्य लोगों ने उन पर हमला किया। तेलंगाना के प्रधान मुख्य वन संरक्षक पी. के. झा ने कहा कि अधिकारी जिस जमीन पर पौधे लगा रहे थे वह वन विभाग की भूमि है और विधायक को इस संबंध में सूचना दे दी गई है। उन्होंने कहा कि विभाग उच्च स्तर पर इस मामले को गंभीरता से उठाएगा। झा ने कहा, ‘‘वह वन विभाग की जमीन थी। मुझे बताया गया है कि उसपर कब्जा करने की कुछ कोशिश की गई। उस वक्त हमारे लोगों ने उसे खाली करा लिया था। वह हमारे कब्जे में है। उनका (विधायक का) भाई वहां था।’’ कन्नप्पा से फिलहाल संपर्क नहीं हो सकता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़