मकान मालिक ने चोरी के शक में विधवा महिला की पीट-पीटकर हत्या की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2019   10:40
मकान मालिक ने चोरी के शक में विधवा महिला की पीट-पीटकर हत्या की

पाहवा ने शनिवार सुबह महिला के भाई महेश जिंदल को फोन कॉल कर कथित चोरी के बारे में जानकारी दी थी। गोयल के भाई महेश जिंदल ने शनिवार को पुलिस को जानकारी दी कि महिला को तीन-चार लोगों ने पीटा है।

नयी दिल्ली। दक्षिणी दिल्ली के महरौली में 44 वर्षीय एक विधवा महिला की चोरी के शक में कथित तौर पर पीट-पीटकर कर हत्या करने के मामले में पुलिस ने महिला के मकान मालिक, उसके परिवार और घरेलू सहायक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि महिला की पहचान मंजू गोयल के रूप में हुई है और उनके दो बच्चे हैं, जो घटना के समय हरियाणा में थे। उन्होंने कहा कि मंजू गोयल ने सतीश पाहवा, उसकी पत्नी, बेटे पंकज और उनकी घरेलू सहायिका कमलेश द्वारा पीटे जाने के बाद सीने में दर्द की शिकायत की थी। पाहवा को शक था कि मंजू उसके घर से रुपये चुराती है।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में दलित किशोरी से गैंगरेप, दारोगा समेत दो पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई

पाहवा ने शनिवार सुबह महिला के भाई महेश जिंदल को फोन कॉल कर कथित चोरी के बारे में जानकारी दी थी। गोयल के भाई महेश जिंदल ने शनिवार को पुलिस को जानकारी दी कि महिला को तीन-चार लोगों ने पीटा है। पुलिस की एक टीम जब घटनास्थल पर पहंची तो जिंदल ने बताया कि उनकी बहन सतीश पाहवा के यहां किराए पर रहती थी। शनिवार सुबह जिंदल की पत्नी को पाहवा ने फोन किया और गोयल पर चोरी का इल्जाम लगाया था। इसके बाद जिंदल पाहवा के घर पहुंचे और पाया कि उनकी बहन को पाहवा और उनका बेटा पंकज तथा अन्य लोग मिलकर कथित तौर पर पीट रहे थे।

इसे भी पढ़ें: 30 साल से चल रही पुरानी रंजिश में बढ़ा विवाद, तीन लोगों को उतारा मौत के घाट

जिंदल इसके बाद अपनी बहन को लेकर घर आ गए, लेकिन उनकी बहन की हालत बिगड़ने लगी।जिंदल ने घर पर डॉक्टर को बुलाया। हालांकि उसी शाम को महिला की मौत हो गई। पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने कहा, ‘‘उनके शव को पोस्टमार्टम के लिए एम्स भेज दिया गया है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...