भाषा मात्र अभिव्यक्ति का जरिया नहीं, इससे बढ़कर है: वेंकैया नायडू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 24, 2020   21:44
भाषा मात्र अभिव्यक्ति का जरिया नहीं, इससे बढ़कर है: वेंकैया नायडू

सेन फ्रांसिस्को में आयोजित किए जा रहे विश्व तेलुगू सांस्कृतिक उत्सव को ऑनलाइन संबोधित करते हुए नायडू ने जोर दिया कि केवल अभिव्यक्ति का जरिया ही नहीं बल्कि इससे कहीं बढ़कर है।

नयी दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को अपनी मातृमें महारत हासिल करने के गुणों पर प्रकाश डाला और लोगों से सांस्कृतिक विविधताओं और मूल्यों की अपनी समझ को व्यापक बनाने के लिए अन्य भाषाओं को सीखने का आग्रह किया। उन्होंने यह भी कहा कि अन्य भाषाओं को सीखना मानव जाति के बीच व्यापक संबंधों को मजबूती देने के साथ ही विभिन्न प्रकार के अवसरों को बढ़ाता है। सेन फ्रांसिस्को में आयोजित किए जा रहे विश्व तेलुगू सांस्कृतिक उत्सव को ऑनलाइन संबोधित करते हुए नायडू ने जोर दिया कि केवल अभिव्यक्ति का जरिया ही नहीं बल्कि इससे कहीं बढ़कर है। 

एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, उप राष्ट्रपति ने कहा कि हर अन्य भाषाओं की एक विकासवादी प्रक्रिया का नतीजा है जोकि दूसरों से बातचीत की लंबी अवधि के दौरान निकलकर आता है। उन्होंने लोगों से विविध संस्कृतियों की व्यापक समझ के लिए अधिक से अधिक भाषाएं सीखने का भी आग्रह किया। नायडू ने लोगों से हमेशा मां, मातृभूमि, मातृऔर गुरु का सम्मान करने का भी आग्रह किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...