कांगो में शहीद हुए बीएसएफ के जवानों का सोमवार को अंतिम संस्कार

last
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में तैनात सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो जवानों के पार्थिव शरीर को रविवार को बाडमेर और सीकर लाया गया। सोमवार को दोनों शहीदों का अपने-अपने पैतृक गांवों में सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जायेगा।

बाड़मेर/सीकर (राजस्थान), 1 अगस्त। कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में तैनात सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दो जवानों के पार्थिव शरीर को रविवार को बाडमेर और सीकर लाया गया। सोमवार को दोनों शहीदों का अपने-अपने पैतृक गांवों में सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जायेगा। कांगो में संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में तैनात लक्ष्मणगढ़ के बगडिय़ों का बास निवासी शिशुपाल सिंह बगडिय़ा व बाड़मेर के सांवलाराम विश्नोई हिंसक प्रदर्शन के दौरान शहीद हो गए।

इससे पहले सीकर के शिशुपाल सिंह व बाड़मेर के लाल सांवलाराम विश्नोई के पार्थिव शरीर को रविवार सुबह युगांडा से सुबह नौ बजे दिल्ली एयरपोर्ट लाया गया। बाद में एयरपोर्ट से पार्थिव शरीर को बीएसएफ मुख्यालय ले जाया गया। मुख्यालय पर सेना के उच्चाधिकारियों एवं केंद्र सरकार की ओर से केन्द्रीय मंत्री कैलाश चौधरी ने पुष्प चक्र अर्पित कर दोनों शहीदों को श्रद्धाजंलि दी।

शहीद शिशुपाल सिंह बगडिय़ा व सांवलराम विश्रोई के पार्थिव शरीर के भारत पहुंचने पर केन्द्रीय मंत्री चौधरी ने श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए इसे देश के लिए अपूरणीय क्षति बताया। चौधरी ने कहा, ‘‘विश्व शांति के लिए हिंदुस्तान और राजस्थान ने भारत माता के दो सच्चे और बहादुर सपूतों को खो दिया है। आज इन वीरों की पार्थिव देह को इनकी जन्मभूमि रवाना करना मेरे लिए काफी मर्माहत और दु:खद पल है।

ईश्वर से प्रार्थना है की उनकी पुण्यात्माओं को चिर शांति व परिजनों को संबल प्रदान करें।’’ कांगो में 26 जुलाई को वीरगति को प्राप्त हुए सांवलाराम बिश्नोई का पार्थिव शरीर रविवार की शाम को बाड़मेर लाया गया। इसके बाद देर शाम करीब 8.30 बजे पार्थिव शरीर को बाड़मेर के शहीद सर्किल पर ले जाया गया, जहां सैकड़ो युवाओं ने नारेबाजी करते हुए शहीद को श्रद्धांजलि दी।

सोमवार सुबह 8 बजे से 8.30 बजे तक बीएसएफ, जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों द्वारा शहीद को श्रद्धांजलि दी जाएगी। इसके बाद पार्थिव शरीर को गुड़ामालानी के बांड गांव ले जाया जाएगा। गांव के श्मशान में शहीद का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। सीकर के शिशुपाल सिंह बगडिय़ा का पार्थिव शरीर शाम में उपखंड के बलांरा थाना परिसर में लाया गया।

पार्थिव शरीर के यहां पहुंचते ही ग्रामीणों व युवाओं ने देशभक्ति के नारों से शहीद को नमन किया। शिशुपाल के बड़े भाई डिप्टी कमांडेन्ट मदनसिंह बगडिय़ा ने बताया कि सोमवार सुबह सात बजे से शहीद के सम्मान में बलारां से सिंगोदड़ा, ढोलास, खीरवा व डूडवा होते हुए उनके पैतृक गांव बगडिय़ा का बास तक युवाओं व ग्रामीणों की ओर से तिरंगा यात्रा निकाली जाएगी। बाद में गांव में सैन्य सम्मान से उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़