केंद्र पर बरसी ममता बनर्जी, कहा- चक्रवात से निपटने के लिए बंगाल को दी गई कम सहायता राशि

केंद्र पर बरसी ममता बनर्जी, कहा- चक्रवात से निपटने के लिए बंगाल को दी गई कम सहायता राशि

आपको बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अलावा आंध्र प्रदेश और उड़ीसा के मुख्यमंत्री शामिल हुए जबकि अंडमान निकोबार दीप समूह के उपराज्यपाल भी बैठक में मौजूद रहे।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी एक बार फिर से केंद्र सरकार पर बरसी हैं। इस बार उन्होंने यास चक्रवात से मुकाबले के लिए केंद्र सरकार द्वारा दी गई अग्रिम सहायता राशि को लेकर सवाल किया है। ममता बनर्जी ने कहा कि यास चक्रवात से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने सिर्फ 400 करोड़ रुपए को मंजूरी दी है। जबकि पश्चिम बंगाल की तुलना में कम जनसंख्या घनत्व वाले राज्य जैसे कि ओडिशा और आंध्रप्रदेश को 600 करोड़ रुपए दिए जा रहे है। ममता बनर्जी ने यह सवाल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ में बैठक के बाद उठाया। आपको बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अलावा आंध्र प्रदेश और उड़ीसा के मुख्यमंत्री शामिल हुए जबकि अंडमान निकोबार दीप समूह के उपराज्यपाल भी बैठक में मौजूद रहे।

इसे भी पढ़ें: चक्रवात यास से निपटने संबंधी तैयारियों की PM मोदी ने की समीक्षा, लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने को कहा

बनर्जी ने कहा कि उनके राज्य में जनसंख्या घनत्व अधिक है और बंगाल के साथ लगातार भेदभाव किया जा रहा है। राज्य सचिवालय में बनर्जी ने संवाददाताओं से कहा, “आज सुबह अमित शाह जी के साथ बैठक हुई। यास चक्रवात से मुकाबले के लिए केंद्र की ओर से ओडिशा और आंध्र प्रदेश को 600 करोड़ रुपये से अधिक दिया जा रहा है और बंगाल को केवल 400 करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं। यह अग्रिम राशि है जो राज्यों को मिलने वाली है।” उन्होंने कहा, “बैठक में मैंने जानना चाहा कि जनसंख्या घनत्व और जिलों के मामले में ओडिशा तथा आंध्र से बड़े राज्य बंगाल को कम पैसा क्यों दिया जा रहा है? हमें लगातार वंचित क्यों रखा जा रहा है?” बनर्जी ने कहा कि शाह ने पूरा सहयोग देने का वादा किया था लेकिन जब राज्यों को अग्रिम राशि देने की घोषणा करने की बात आई तब बंगाल को कम दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: Cyclone Yaas: भारत में पूर्वी तट पर तूफानी चक्रवात यास का अलर्ट जारी, तैयारियां जोरों पर

उन्होंने कहा, “ओडिशा और आंध्र प्रदेश से मेरे अच्छे संबंध हैं। केंद्र उन्हें क्या दे रहा है इससे मुझे कोई समस्या नहीं। लेकिन क्या आप उत्तर प्रदेश की तुलना पुडुचेरी से कर सकते हैं? यह जनसंख्या घनत्व, इतिहास, भूगोल और सीमाओं पर निर्भर करता है।” बनर्जी ने शाह की आलोचना करते हुए कहा, “गृह मंत्री ने मुझे बताया कि इस मसले पर बाद में चर्चा की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह वैज्ञानिक दृष्टिकोण पर निर्भर करता है। मैंने इस पर कोई जवाब नहीं दिया क्योंकि मुझे राजनीति विज्ञान की समझ है लेकिन इस विषय की नहीं।” बनर्जी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने इससे पहले 2019 में बुलबुल और उसके बाद अम्फान चक्रवात के समय भी पश्चिम बंगाल की सहायता नहीं की थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।