राहुल गांधी को ‘दीक्षा’ देने वाला लिंगायत धर्मगुरु गिरफ्तार, नाबालिग छात्राओं का कई साल से कर रहा था यौन शोषण

Rahul Gandhi
creative common
अभिनय आकाश । Aug 30, 2022 1:31PM
शिवमूर्ति पर यौन अपराधों ले बच्चों का संरक्षण यानी पॉस्को एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। पीड़ित छात्राओं ने मैसूर के एक एनजीओ ओडानाडी सेवा संस्थान से संपर्क किया और अपने साथ हुए यौन शोषण की बात बताई।

कर्नाटक में लिंगायत मठ के एक प्रमुख संत शिवमूर्ति मुरुघा शरणारु को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। संत पर कर्नाटक में नाबालिगों के यौन उत्पीड़न के आरोप हैं। आपको बता दें कि ये संत कर्नाटक के चित्रदूर्ग में प्रमुख मुरुघा मठ के प्रमुख पुजारी हैं। संत को कर्नाटक के हावेड़ी जिले से हिरासत में लिया गया है। संत पर मठ द्वारा संचालित किए जा रहे संस्था की छात्राओं का यौन उत्पीड़न करने का आरोप है। मठ के स्कूल की छात्राओं ने लगातार साढ़े तीन साल यौन शोषण की शिकायत की है। मठ के संत शिवमूर्ति मुरुघा का नाम भी आरोपियों में शामिल है। 

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi NewsRoom: शशि थरूर को रोकने के लिए गांधी परिवार के वफादारों ने कसी कमर

शिवमूर्ति पर यौन अपराधों ले बच्चों का संरक्षण यानी पॉस्को एक्ट की धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। पीड़ित छात्राओं ने मैसूर के एक एनजीओ ओडानाडी सेवा संस्थान से संपर्क किया और अपने साथ हुए यौन शोषण की बात बताई। एनजीओ के बाद ये मामला ज़िला बाल कल्याण समिति के संज्ञान में आया। एनजीओ प्रमुख का दावा है कि यौन उत्पीड़न सिर्फ़ दो छात्राओं का नहीं हुआ है बल्कि इस संस्थान में पढ़ने वाली कई छात्राओं का यौन शोषण किया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस का दावा, ऐतिहासिक होगी भारत जोड़ो यात्रा, पूरी यात्रा में शामिल होंगे राहुल

कर्नाटक की राजनीति में लिंगायत मठों का बड़ा योगदान है। मौजूदा मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई हो या फिर पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय से ही आते हैं। अधिकांश लिंगायत गुट सत्ताधारी बीजेपी के समर्थक माने जाते हैं। लेकिन कर्नाटक की राजनीति में कोई दल या नेता ऐसा नहीं जो लिंगायत मठों के चक्कर न लगाता हो। हाल ही में कांग्रेस नेता राहुल गांधी मुरुघा मठ आए थे। राहुल गांधी ने मठ के प्रमुख डॉक्टर शिवमूर्ति मुरूगा शरणरू स्वामी जी से मुलाकात की थी। यहां लिंगायत महंत ने उन्हें लिंग दीक्षा भी दी थी। यानी आधिकारिक रूप से लिंगायत संप्रदाय में शामिल होने का न्यौता भी दिया था। 

अन्य न्यूज़