लोजपा ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र, कोरोना और बाढ़ को देखते हुए बिहार में चुनाव टालने की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 31, 2020   20:51
लोजपा ने चुनाव आयोग को लिखा पत्र,  कोरोना और बाढ़ को देखते हुए बिहार में चुनाव टालने की मांग की

लोजपा ने कहा कि चुनाव कराने के लिए एक बड़ी आबादी की जान को खतरे में डालना पूरी तरह अनुचित है। उसने कहा कि देश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से 35 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें 280 मामले बिहार के हैं।

नयी दिल्ली। भाजपा की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर बिहार विधानसभा चुनाव अक्टूबर-नवंबर में नहीं कराने की मांग की है और कहा है कि महामारी के हालात में चुनाव कराना जानबूझकर लोगों को मौत की तरफ धकेलने के समान होगा। लोजपा ने कहा कि इस समय संसाधनों का इस्तेमाल कोविड-19 संकट से निपटने में तथा राज्य में बाढ़ से निपटने में होना चाहिए, न कि चुनाव कराने में। पार्टी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी पहले ही खतरनाक स्वरूप ले चुकी है और जानकारों का मानना है कि अक्टूबर-नवंबर में यह और खतरनाक स्तर पर हो सकती है, इसलिए इस समय प्राथमिकता लोगों की जान बचाने की होनी चाहिए, न कि चुनाव कराने की।

चुनाव कराने के संबंध में लोजपा का रुख राजग में भाजपा की अन्य सहयोगी जदयू के विपरीत है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई वाली जदयू ने समय पर चुनाव कराने की वकालत की है और इसकी तैयारियों के सिलसिले में पार्टी संगठन स्तर पर बैठकें भी कर रही है। भाजपा का कहना है कि चुनाव की तारीखों पर कोई भी फैसला चुनाव आयोग का विशेषाधिकार है, वहीं बिहार में मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर चुनाव टालने की मांग कर चुका है। आयोग ने चुनाव कराने पर सभी दलों के विचार पूछे हैं। 

इसे भी पढ़ें: चिराग पासवान ने सुशांत राजपूत के मामले में उद्धव ठाकरे से की बात, सीबीआई जांच की मांग की

लोजपा ने कहा कि चुनाव कराने के लिए एक बड़ी आबादी की जान को खतरे में डालना पूरी तरह अनुचित है। उसने कहा कि देश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण से 35 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जिनमें 280 मामले बिहार के हैं। उसने चुनाव आयोग से कहा, ‘‘ऐसे हालात में चुनाव कराना जानबूझकर लोगों को मौत की ओर धकेलने के समान होगा।’’ पार्टी ने कहा है कि बिहार का बड़ा हिस्सा बाढ़ से भी बुरी तरह त्रस्त है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।