लॉकडाउन : भगवान जगन्नाथ की चंदन जात्रा, अक्षय तृतीया त्योहारों पर पुरी मंदिर परिसर के भीतर ही आयोजन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   15:37
लॉकडाउन : भगवान जगन्नाथ की चंदन जात्रा, अक्षय तृतीया त्योहारों पर पुरी मंदिर परिसर के भीतर ही आयोजन

अक्षय तृतीया मंदिर के बाहर ‘रथ कला’ में मनाई जाती है जबकि चंदन जात्रा पुरी में एक सरोवर में आयोजित होती है। हालांकि उन्होंने कहा कि रथ जात्रा के आयोजन पर फैसला तीन मई के बाद लिया जाएगा।

भुवनेश्वर।  कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के मद्देनजर लागू देशव्यापी लॉकडाउन के मद्देनजर भगवान जगन्नाथ की ‘चंदन जात्रा’ और ‘अक्षय तृतीय’ उत्सवों का आयोजन ओडिशा के पुरी मंदिर परिसर में रविवार को किया जाएगा। पुरी के गजपति महाराज दिव्य सिंह देब ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि यह फैसला गोवर्धन पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती के साथ मंदिर की प्रबंध समिति की शुक्रवार रात हुई बैठक में लिया गया। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस: ओडिशा में पांच और व्यक्ति संक्रमित पाए गए, कुल मामले 94 हुए

देब ने संवाददाताओं को बताया, “गुरुजी (शंकराचार्य) की सलाह पर, यह तय किया गया है कि अक्षय तृतीया और चंदन जात्रा दोनों का आयोजन मंदिर के परिसर में ही किया जाएगा। गुरुजी ने कहा कि मंदिर की परंपरा को बरकरार रखना होगा और सदियों पुराने अनुष्ठानों को रोका नहीं जा सकता।” उन्होंने कहा कि ये अनुष्ठान चुनिंदा पुजारी एवं सेवक करेंगे लेकिन श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर के भीतर आने की अनुमति नहीं होगी। गजपति महाराज ने पूर्व में कहा था कि मंदिर प्रशासन बंद के मद्देनजर मंदिर परिसर से बाहर कोई भी गतिविधि नहीं करेगा। 

इसे भी पढ़ें: भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा पर CM पटनायक ने PM मोदी से की बात, हर साल लगभग 10 लाख श्रद्धालु उत्सव के लिए होते हैं एकत्र

अक्षय तृतीया मंदिर के बाहर ‘रथ कला’ में मनाई जाती है जबकि चंदन जात्रा पुरी में एक सरोवर में आयोजित होती है। हालांकि उन्होंने कहा कि रथ जात्रा के आयोजन पर फैसला तीन मई के बाद लिया जाएगा। गजपति महाराज के अलावा, जगन्नाथ मंदिर प्रबंधन समिति, पुरी जिला कलक्टर और पुलिस अधीक्षक ने शंकराचार्य से मुलाकात कर बंद के बीच अनुष्ठानों के तरीकों पर परामर्श लिया। गजपति महाराज ने कहा कि बंद के दिशा-निर्देश मंदिर के भीतर और बाहर धार्मिक कार्यक्रमों को प्रतिबंधित करते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।