ओमिक्रॉन को लेकर झारखंड में 6 दिसंबर से लगेगा लॉकडाउन? जानिए क्या है Viral News का सच

ओमिक्रॉन को लेकर झारखंड में 6 दिसंबर से लगेगा लॉकडाउन? जानिए क्या है Viral News का सच

वायरल खबर में यह लिखा गया है कि कोरोना के नए ओमिक्रॉन को देखते हुए झारखंड में एक बार फिर से लॉकडाउन लगने वाला है। हालांकि, यह खबर पूरी तरह फर्जी है और खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के ऑफिस से इस तरह की खबरों को खारिज किया गया है।

विश्व और भारत अब भी कोरोना वायरस की चपेट से बाहर नहीं निकल सका है। वैक्सीनेशन की रफ्तार लगातार तेज की जा रही है। इन सबके बीच कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने एक बार फिर से पूरी दुनिया की चिंता बढ़ा दी है। स्थिति ऐसी है कि विश्व के कई देशों में लॉकडाउन की योजना पर फिर से काम किया जा रहा है। इन सबके बीच भारत में भी ओमिक्रॉन के 4 मामले सामने आए हैं। जिसको देखते हुए भारत में सतर्कता बढ़ा दी गई है। कई राज्य सरकारें नए वेरिएंट के मद्देनजर विभिन्न प्रकार के प्रतिबंध भी लगा रहे हैं। इन सबके बीच सोशल मीडिया पर एक खबर पूरी तरीके से वायरल हो रही है।

दरअसल, वायरल खबर में यह लिखा गया है कि कोरोना के नए ओमिक्रॉन को देखते हुए झारखंड में एक बार फिर से लॉकडाउन लगने वाला है। हालांकि, यह खबर पूरी तरह फर्जी है और खुद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के ऑफिस से इस तरह की खबरों को खारिज किया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने लिखा कि माननीय सीएम हेमंत सोरेन के ट्विटर अकाउंट का यह स्क्रीनशॉट एक फर्जी पोस्ट है। झारखंड सरकार की ओर से कोरोना लॉकडाउन के बारे में कोई निर्णय नहीं लिया गया है। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि इस मामले को लेकर झारखंड पुलिस को एफआईआर दर्ज करने, बदमाशों की पहचान करने और कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है। 

आपको बता दें कि जो फर्जी खबर सोशल मीडिया पर चल रहा है वह हेमंत सोरेन के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से राज्य में लॉकडाउन की घोषणा का नकली स्क्रीनशॉट वायरल किया गया था। वायरल ट्वीट में लिखा गया है मेरे झारखंड वासियों और सभी को मालूम ही होगा कि घातक वेरिएंट आया है जिसका नाम ओमिक्रॉन है। आप सभी की सुरक्षा के लिए झारखंड में लॉकडाउन लगने वाला है। 6 दिसंबर 2021 से 1 जनवरी 2022 तक सभी स्कूल, कॉलेज, इंस्टिट्यूट, आंगनवाडी, धर्म स्थान, पार्क बंद रहेंगे और सारे परीक्षा कैंसिल रहेंगे। अगर कहीं जरूरी काम से जाना है तो ई-पास लगेगा। सुरक्षित रहें और घर पर रहें। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।