भगत सिंह को ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ बताने पर लोकसभा में आपत्ति

दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाई जा रही एक पुस्तक में भगत सिंह को कथित रूप से ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ और राहुल गांधी को ‘करिश्माई नेता’ बताये जाने को लेकर लोकसभा में आज नोकझोंक हुई।

दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाई जा रही मृदुला मुखर्जी और विपिन चंद्रा की एक पुस्तक में शहीद ए आजम भगत सिंह को कथित रूप से ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को ‘करिश्माई नेता’ बताये जाने को लेकर लोकसभा में आज सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच काफी नोकझोंक हुई। सदन में शून्यकाल के दौरान भाजपा सदस्य अनुराग ठाकुर ने यह मामला उठाते हुए कांग्रेस पर आरोप लगाया कि उसने अपने शासनकाल के दौरान देश की शिक्षा को खत्म करने और इतिहास को तोड़ने मरोड़ने का प्रयास किया है जिसके लिए देश उसे कभी माफ नहीं करेगा।

कांग्रेस सदस्यों के कड़े प्रतिवाद के बीच ठाकुर ने कहा कि इस पुस्तक के लेखकों में से एक मृदुला मुखर्जी के खिलाफ वित्तीय अनियमितताओं की जांच चल रही है। उन्होंने कहा कि मृदुला और विपिन चंद्रा की पुस्तक ‘इंडियाज स्ट्रगल फार इंडीपेंडेंस’ में भगत सिंह को ‘क्रांतिकारी आतंकवादी’ बताया जाना बेहद आपत्तिजनक है और उससे भी आपत्तिजनक यह बात है कि कथित दो विचारधाराओं के नाम पर ऐसी पुस्तक दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ाई जा रही है। भाजपा सदस्य ने कहा कि इसी पुस्तक में राहुल गांधी को ‘करिश्माई नेता’ बताया गया है जो अपने आप में एक मजाक है क्योंकि उनके नेतृत्व में इस बार कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव लड़ा और इतिहास में अब तक की सबसे कम 44 सीटें ही उनकी पार्टी को मिली। ठाकुर की इन टिप्पणियों पर कांग्रेस सदस्यों ने कड़ा प्रतिवाद किया और हंगामे के बीच ही अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने सदन की बैठक भोजनावकाश के लिए स्थगित कर दी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


Tags

    अन्य न्यूज़