प्यार किया तो डरना क्या! ओडिशा से भागे प्रेमी जोड़े ने क्वॉरेंटाइन सेंटर में रचाई शादी

प्यार किया तो डरना क्या! ओडिशा से भागे प्रेमी जोड़े ने क्वॉरेंटाइन सेंटर में रचाई शादी

कहां जा रहा है कि दोनों इसी साल जनवरी में अपने-अपने घरों से भाग गए थे। पूरी जिले के सराडा गांव के 19 साल के सौरव दास में अपने ही गांव की पिंकी रानी से 14 दिन के क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहने के बाद वही शादी भी रचा ली।

पूरी दुनिया में कोरोनावायरस का कोहराम मचा हुआ है। भारत में भी इसका प्रकोप बढ़ता जा रहा है। देश में कोरोना सामुदायिक स्तर पर ना फैले, इसके लिए कई फैसले लिए गए है। इन फैसलों में से एक है प्रवासी कामगारों को हृह राज्य लौटने पर 14 या फिर 21 दिनों के लिए क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखना। हालांकि क्वॉरेंटाइन सेंटर में ऐसे काम हो रहे हैं जो खबरें बन जा रही है। कोरोना वायरस के उथल पुथल के बीच ओडिशा के एक युवा जोड़े ने क्वॉरेंटाइन सेंटर में शादी रचा ली। कहां जा रहा है कि दोनों इसी साल जनवरी में अपने-अपने घरों से भाग गए थे। पूरी जिले के सराडा गांव के 19 साल के सौरव दास में अपने ही गांव की पिंकी रानी से 14 दिन के क्वॉरेंटाइन सेंटर में रहने के बाद वही शादी भी रचा ली।

इसे भी पढ़ें: आग लगने के बाद दम घुटने से बीजद नेता आलेख चौधरी और दो अन्य की मौत

इसी साल जनवरी में सौरभ अपनी प्रेमिका पिंकी रानी के साथ भागकर अहमदाबाद चला गया था जहां दोनों साथ रहते थे और काम करते थे। लड़की के परिवार वालों ने भी लड़के के परिवार के खिलाफ कोई एफआईआर दर्ज नहीं करवाई थी। अहमदाबाद के जिस प्लास्टिक फैक्ट्री में सौरभ काम करता था वह लॉक डाउन के दौरान बंद हो गया। कामकाज ठप होने के बाद दोनों कई मुश्किलों का सामना करने के बाद अपने गृह राज्य लौटे। ओडिशा लौटने के बाद उन्हें सराडा गांव में क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा गया। ओडिशा लौटने पर दोनों का कोरोनावायरस टेस्ट करवाया गया। दोनों का टेस्ट नेगेटिव निकला। एक अधिकारी ने बताया कि लड़की गर्भवती हो गई थी ऐसे में हमने यह तय किया कि उनकी शादी करवा दी जाए।

इसे भी पढ़ें: ओडिशा में कोरोना के 63 नए मामले, कुल संक्रमितों की संख्या 1,723

क्वॉरेंटाइन सेंटर में 14 दिन पूरे करने के बाद दोनों युवा जोड़ी ने शादी कर ली। दिलचस्प बात यह रही कि दोनों के परिवार के लोग शादी में मौजूद नहीं थे। दरअसल कोरोना संकट के बीच क्वॉरेंटाइन सेंटर में बाहर के लोगों को अंदर जाने की इजाजत नहीं है। इस परिस्थिति में क्वॉरेंटाइन सेंटर के प्रभारी और वहां एक और शिक्षक दूल्हा और दुल्हन के माता-पिता बन गए और उन्होंने ही इनकी शादी करवा दी। शादी के मौके पर स्थानीय सरपंच, वार्ड सदस्य, आशा कार्यकर्ता और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित रहे। इन्हीं के सहयोग से यह शादी को भी पाया। आपको बता दें कि प्रवासियों के भारी तादाद में लौटने के कारण ओडिशा में भी संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।