बीजेपी की निलंबित नेता सीमा पात्रा क्यों बनीं हैवान? घर की नौकरानी को 10 साल तक किया टॉर्चर, पीड़ित आदिवासी महिला बोली- मैडम मुझे...

Seema Patra
ANI
रेनू तिवारी । Aug 31, 2022 2:46PM
बीजेपी की निलंबित नेता सीमा पात्रा को रांची पुलिस ने बुधवार तड़के गिरफ्तार कर लिया। उसे 12 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। सीमा पात्रा पुलिस की गिरफ्तारी के डर से भाग गई थी, जिसके बाद रांची में अरगोड़ा पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की।

निलंबित भाजपा नेता सीमा पात्रा ने अपने घर पर काम करने वाली आदिवासी माहिला को 10 साल तक प्रताड़ित किया हैं। आदिवासी माहिला से जीभ से टॉयलेट भी साफ करवाया। पात्रा की हैवानियत यहीं नहीं रुकी उसने आदिवासी माहिला को गर्म चीजों से बार बार जलाया। आखिर इतना निर्दयीपन सीमा पात्रा ने क्यों दिखाया! इस सवाल का जवाब हर कोई जानना चाहता है लेकिन अभी इस मामले पर निलंबित नेता कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं है लेकिन सीमा पात्रा के अत्याचारों को बया करने के लिए अब आदिवासी महिला ने अस्पताल में अपना मुंह खोल दिया हैं। वेहत बुरी स्थिति में सीमा के घर से आदिवासी माहिला का रेस्क्यू किया गया और दयनीय हालत में अस्पताल पहुंचाया गया है।

 

इसे भी पढ़ें: बेटे की फोड़ दी आंखें, सिखों के 5वें गुरु का कराया कत्ल, अकबर का वारिस जो केवल नाम का ही था 'जहांगीर'

 

आदिवासी महिला का इलाज अस्पताल में चल रहा है। होश आने के बाद आदिवासी माहिला ने अपने उपर किए जा रहे 10 सालों से अत्याचार की आपबीती के कुछ अंशों का खुलासा किया है। निलंबित भाजपा नेता सीमा पात्रा की गिरफ्तारी के बाद आदिवासी महिला ने कहा, जब काम करते समय मुझसे गलती हो जाती तो वह मुझे बहुत पीटती थी। उसने कहा, "मुझे गले की समस्या है। आपने जो सुना वह ठीक मेरे साथ हुआ। महिला की हालत ठीक नहीं हैं ऐसे में वह कुछ साफ तरह से बोल नहीं सकीं।

इसे भी पढ़ें: ताजमहल होगा तेजोमहालय? आगरा नगर निगम की बैठक में बीजेपी पार्षद आज पेश करेंगे प्रस्ताव

बीजेपी की निलंबित नेता सीमा पात्रा को रांची पुलिस ने बुधवार तड़के गिरफ्तार कर लिया। उसे 12 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। सीमा पात्रा पुलिस की गिरफ्तारी के डर से भाग गई थी, जिसके बाद रांची में अरगोड़ा पुलिस ने उसकी तलाश शुरू की। घरेलू नौकरानी के रूप में काम करने वाली सुनीता को कथित तौर पर अपनी जीभ से शौचालय साफ करने के लिए कहा गया था।

सुनीता के शरीर पर कई घाव थे। उसने आरोप लगाया है कि सीमा पात्रा उसे गर्म वस्तुओं से जलाती थी। रांची के अरगोडा पुलिस स्टेशन में पूर्व आईएएस अधिकारी महेश्वर पात्रा की पत्नी पात्रा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की संबंधित धारा और एससी-एसटी अधिनियम, 1989 की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया था। सुनीता का बयान मंगलवार को धारा 164 के तहत अदालत में दर्ज किया गया. घरेलू सहायिका को गाली देने के आरोप में झारखंड बीजेपी ने सीमा पात्रा को सस्पेंड कर दिया है।

रांची पुलिस ने सीमा पात्रा को गिरफ्तार करने के लिए कई स्थानों पर छापेमारी की थी और गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने उसे उस समय गिरफ्तार कर लिया जब वह रांची से सड़क मार्ग से भागने की कोशिश कर रही थी।

भाजपा नेता और पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी पीड़ित महिला से मिलने अस्पताल पहुंचे उन्होंने कहा हम यहां पीड़िता से मिलने आए थे, वह गरीब महिला है और उसके (आरोपी सीमा पात्रा) के घर पर काम करती थी। जिस तरह से उसे पीटा गया वह ठीक नहीं था। यह अच्छा है कि उन्हें (सीमा पात्रा) गिरफ्तार कर लिया गया है और पार्टी ने उन्हें भी हटा दिया है।

कौन हैं सीमा पात्रा?

सीमा पात्रा 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' अभियान की राज्य संयोजक हैं। वह भाजपा की महिला विंग की सदस्य थीं और पूर्व आईएएस अधिकारी महेश्वर पात्रा की पत्नी हैं। राज्य सचिवालय में कार्यरत सीमा पात्र के बेटे आयुष्मान ने नौकरानी को बचाने का प्रयास किया और उसने अपने दोस्त विवेक बस्के को घर में हुई घटनाओं के बारे में सूचित किया था। सुनीता ने आखिरकार विवेक को अपनी पीड़ा के बारे में बताया और उसकी मदद से उसे बचा लिया गया। राष्ट्रीय महिला आयोग ने सीमा पात्रा द्वारा झारखंड में अपनी घरेलू सहायिका को परेशान करने की खबरों पर संज्ञान लिया

अन्य न्यूज़