मध्य प्रदेश: ओपन बुक प्रणाली से होंगी स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षाएं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   21:34
मध्य प्रदेश: ओपन बुक प्रणाली से होंगी स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षाएं

मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन देने पर उनकी फाइनल डिग्री पर हमेशा सवाल उठाये जाते हैं, इसलिये ओपन बुक प्रणाली से परीक्षा लेने का निर्णय लिया गया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को कहा कि प्रदेश में वर्ष 2019-20 शैक्षणिक सत्र की स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षाएं ओपन बुक प्रणाली से सितंबर में करवाई जाएंगी। राज्य जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘मुख्यमंत्री ने कहा है कि स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं के लिए कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं सामाजिक दूरी को ध्यान में रखते हुए उनकी परीक्षाएं घरों में ही रहकर ओपन बुक प्रणाली से करवाई जाएंगी।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यार्थियों को जनरल प्रमोशन देने पर उनकी फाइनल डिग्री पर हमेशा सवाल उठाये जाते हैं, इसलिये ओपन बुक प्रणाली से परीक्षा लेने का निर्णय लिया गया है।

चौहान ने कहा कि स्नातक प्रथम, द्वितीय वर्ष एवं स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को गत वर्ष के परीक्षा परिणाम तथा वर्तमान सत्र के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर आगामी कक्षा में प्रवेश दिया जाएगा। इसका निर्णय पहले ही किया जा चुका है। उन्होंने कहा किकोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत उच्च शिक्षा में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य की सुरक्षा और उनके कैरियर एवं भविष्य को ध्यान में रखते हुए ये महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये हैं। उन्होंने कहा कि परीक्षार्थी को अपनी उत्तर पुस्तिका जमा करने के लिए हजारों की संख्या में हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी स्कूलों में राज्य सरकार संग्रहण केन्द्र स्थापित कर रही है, जहां छात्र-छात्राएं अपनी उत्तर पुस्तिका जमा कर सकते हैं। चौहान ने बताया कि उत्तर पुस्तिका जमा करने के लिये परीक्षार्थी के पास दो विकल्प और होंगे, जिसमें डाक द्वारा और ई-मेल द्वारा भी उत्तर पुस्तिका भेजने की सुविधा होगी। उन्होंने कहा कि स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा में 5.71 लाख छात्र-छात्राएँ शामिल होंगे। उन्होंने कहा, ‘‘विश्वविद्यालयीन परीक्षाएं सितम्बर में आयोजित की जाएंगी, जिसके परीक्षा परिणाम अक्टूबर में घोषित होंगे।’’  

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ रणनीति बनाते-बनाते खुद चपेट में आए मुख्यमंत्री और ये तमाम मंत्री

वहीं, मुख्यमंत्री चौहान ने ट्वीट किया, ‘‘हमने आपके हित में प्रदेश के तकनीकी कॉलेजों की परीक्षाओं को लेकर भी कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं, जिन्हें मैं आपके साथ साझा कर रहा हूँ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सभी तकनीकी पाठ्यक्रमों के दूसरे सेमेस्टर से लेकर सातवें सेमेस्टर तक के विद्यार्थियों का गत वर्ष/सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम एवं सेमेस्टर के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगले सेमेस्टर में उन्हें प्रवेश दिया जाएगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इंजीनियरिंग और फॉर्मेसी के स्नातक पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष/सेमेस्टर के विद्यार्थियों की सैद्धांतिक और प्रयोगिक परीक्षाएँ 24 अगस्त 2020 से लेकर 9 सितंबर 2020 के बीच ऑनलाइन मोड में आयोजित होंगी।’’ चौहान ने कहा, ‘‘डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के अंतिम वर्ष/सेम. के विद्यार्थियों की सैद्धांतिक व प्रयोगिक परीक्षाएँ 27 अगस्त 2020 से 14 सितंबर 2020 के बीच ऑनलाइन होंगी। जो विद्यार्थी सम्मिलित नहीं हो सकेंगे, उनके लिए विशेष ऑनलाइन/ऑफलाइन परीक्षा 15 से 23 सितंबर 2020 के बीच आयोजित की जाएंगी।’’ मुख्यमंत्री ने छात्र-छात्राओं से आह्वान किया कि सुनहरे भविष्य के लिये मन लगाकर पढ़ाई करें और कड़ी मेहनत करें, जिससे माता-पिता के साथ मध्य प्रदेश का भी गौरव बढ़ सके।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।