नवनीत राणा ने दी उद्धव ठाकरे को चुनौती, कहा- हिम्मत है तो मेरे खिलाफ चुनाव जीतकर दिखाएं

नवनीत राणा ने दी उद्धव ठाकरे को चुनौती, कहा- हिम्मत है तो मेरे खिलाफ चुनाव जीतकर दिखाएं
Google common license

मीडिया से बातचीत के दौरान नवनीत राणा ने कहा कि, मैं महाराष्ट्र की जनता और ठाकरे सरकार से सवाल करना चाहती हूं कि मैंने ऐसी क्या गलती कि जो मुझे ऐसी सजा दी गई। अगर हनुमान चालीसा और भगवान राम का नाम लेना गुनाह है तो 14 दिन नहीं 14 साल जेल में रहने को तैयार हूं।

अमरावती से निर्दलीय सासंद नवनीत राणा को रविवार 8 मई को लीलावती अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। अस्पताल से निलकने के बाद नवनीत राणा के हाथ में हनुमान चालीसा की एक किताब भी साथ थी।समर्थकों ने अस्पताल के बाहर नवनीत राणा का आरती और शंख नाद के साथ स्वागत किया। इस बीच मीडिया से बातचीत के दौरान नवनीत राणा ने कहा कि, मैं महाराष्ट्र की जनता और ठाकरे सरकार से सवाल करना चाहती हूं कि मैंने ऐसी क्या गलती कि जो मुझे ऐसी सजा दी गई। अगर हनुमान चालीसा और भगवान राम का नाम लेना गुनाह है तो 14 दिन नहीं 14 साल जेल में रहने को तैयार हूं। 14 दिन में दबने वाली नहीं हूं। हमारी लड़ाई जारी रहेगी। नवनीत ने ठाकरे सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि हिम्मत है तो उद्धव ठाकरे मेरे खिलाफ चुनाव जीतकर दिखाएं। 

इसे भी पढ़ें: J&K को लेकर क्या है AAP की योजना ? संजय सिंह की मौजूदगी में जम्मू-कश्मीर नेशनल पैंथर्स पार्टी के अध्यक्ष समेत कई नेता पार्टी में हुए शामिल

नवनीत के विधायक पति रवि राणा ने भी एक बयान जारी कर कहा कि वे लड़ाई नहीं छोड़ेंगे और जल्द ही दिल्ली का दौरा करेंगे और अमित शाह को घटनाक्रम से अवगत कराएंगे। उन्होंने कहा कि “हम लड़ने के लिए दृढ़ हैं। मुख्यमंत्री हम पर दबाव बनाकर कार्रवाई कर रहे हैं,”। इससे पहले शनिवार को महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने मुंबई के लीलावती अस्पताल में अमरावती सांसद नवनीत राणा से मुलाकात की। हाल ही में जमानत पाने वाले निर्दलीय सांसद का अस्पताल में इलाज चल रहा था। फडणवीस के अस्पताल के दौरे के दौरान नवनीत राणा के विधायक पति रवि राणा भी मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: ढाई साल के बेटे के सामने 79 दिनों तक तांत्रिक ने महिला से किया बलात्कार, कमरे में कर रखा था बंद

फडणवीस ने हाल ही में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में हनुमान चालीसा के पाठ के मुद्दे पर राणा दंपत्ति का समर्थन किया था। उन्होंने कहा था कि "अगर यहाँ नहीं तो क्या पाकिस्तान में हनुमान चालीसा का पाठ किया जाएगा?"

7 मई को अमरावती के सांसद से मिलने के दौरान फडणवीस के साथ बीजेपी नेता आशीष शेलार भी थे। इससे पहले, भाजपा नेता किरीट सोमैया ने भी अस्पताल का दौरा किया था और कहा था कि भायखला जेल में नवनीत राणा के साथ जिस तरह से दुर्व्यवहार किया गया था, उसकी कहानियां सुनकर वह स्तब्ध हैं। भायखला जेल से रिहा होने के तुरंत बाद अमरावती की सांसद को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजे जाने के बाद रखा गया था। उन्होंने हाई बीपी, सीने में दर्द और बदन दर्द की शिकायत की थी। उनके वकीलों ने पहले शिकायत की थी कि उन्हें जांच की अनुमति नहीं दी जा रही है और अगर उनकी हालत बिगड़ती है तो उनकी हालत के लिए ठाकरे सरकार जिम्मेदार होगा। राणा दंपत्ति को खार पुलिस ने 23 अप्रैल को गिरफ्तार किया था। दंपति ने सीएम उद्धव ठाकरे के आवास के सामने हनुमान चालीसा का पाठ करने की चुनौती दी थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...