• टीकाकरण पर बोलीं ममता बनर्जी, कहा- केंद्र कोवैक्सीन की वैश्विक स्वीकार्यता सुनिश्चित करे

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वह यह सुनिश्चित करने के लिए तुरंत कदम उठाए कि कोवैक्सीन का टीका लगवाने वाले लोगों को विदेश यात्रा में बाधाओं का सामना नहीं करना पड़े।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को केंद्र सरकार से आग्रह किया कि वह यह सुनिश्चित करने के लिए तुरंत कदम उठाए कि कोवैक्सीन का टीका लगवाने वाले लोगों को विदेश यात्रा में बाधाओं का सामना नहीं करना पड़े। बनर्जी ने राज्य सचिवालय ‘नबन्ना’ में संवाददाताओं से कहा कि कोवैक्सीन ने पड़ोसी देश बांग्लादेश और ब्राजील के साथ भी समस्या पैदा की है। उन्होंने कहा, ‘‘कोवैक्सीन को दूसरे देशों ने मान्यता नहीं दी है और वहां यह स्वीकार्य नहीं है। विदेशों में उच्च शिक्षा हासिल करने की चाहत रखने वाले कई छात्रों को यात्रा में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि उन्होंने कोवैक्सीन का टीका लगवाया है।’’

इसे भी पढ़ें: निर्वाचन आयोग ने पूर्व केंद्रीय मंत्री बलराम नाइक को तीन साल के लिए अयोग्य ठहराया

बनर्जी ने दावा किया, ‘‘कोवैक्सीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दिमाग की उपज है और इसने ब्राजील तथा बांग्लादेश के साथ समस्या पैदा की है।’’ मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन लोगों ने कोविशील्ड का टीका लगवाया है उन्हें कोई दिक्कत नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘या तो तुरंत कोवैक्सीन को विश्व स्वास्थ्य संगठन से मान्यता दिलाएं या कोवैक्सीन की पूरी दुनिया में स्वीकार्यता के लिए अन्य कदम उठाएं।’’ बनर्जी ने मुख्य सचिव एच. के. द्विवेदी को इस सिलसिले में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव एवं कैबिनेट सचिव को पत्र लिखने का भी निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने कोविशील्ड खुराक की खरीद करके राज्य के लोगों को मुहैया करायी। अधिकांश देश आगंतुकों को प्रवेश की अनुमति देने के लिए पूर्ण टीकाकरण प्रमाणपत्र मांग रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री पशुधन योजना का शत प्रतिशत क्रियान्वयन सुनिश्चित करे : कृषि सचिव

बनर्जी ने सभी के टीकाकरण कार्यक्रम की प्रधानमंत्री की घोषणा और 21 जून को इसे लागू करने के बीच अंतर की ओर इशारा करते हुए केंद्र पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘‘पंद्रह दिन गंवा दिये गए... क्या आप सोच सकते हैं! इसके लिए कौन जिम्मेदार है? विपक्ष किसी बीमारी से क्यों खेलेगा? मुझे लगता है कि भाजपा सभी के लिए एक बड़ी बीमारी है। वे लोगों के फैसले को पचा नहीं सकते हैं, न ही वे लोगों के आंदोलन को स्वीकार कर सकते हैं। आपको नहीं लगता कि उन्हें शर्म आनी चाहिए?’’ मुख्यमंत्री ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा के इस आरोप पर उन पर निशाना साधा कि विपक्ष टीकाकरण प्रक्रिया के साथ राजनीति कर रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे समझ में नहीं आता कि नड्डा ऐसा क्यों कह रहे हैं। क्या उन्हें तथ्यों की जानकारी है?’’ उन्होंने कहा, ‘‘उनकी (भाजपा) सिर्फ बंगाल चुनाव में रुचि थी और चुनाव के बाद वे बंगाल को विभाजित करना चाहते हैं। उस नीति को लागू करने के लिए उन्होंने लोगों को दूसरी लहर से पहले सावधानी नहीं बरतने दी।

उन्होंने छह से आठ महीने तक कुछ नहीं किया।’’ बनर्जी ने आरोप लगाया कि दूसरी लहर के लिए भाजपा नीत केंद्र सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने दावा किया, ‘‘उन्होंने पश्चिम बंगाल को ठीक से टीके नहीं दिए। हालांकि, कुछ भाजपा शासित राज्य हैं जिन्हें अच्छी संख्या में टीके मिल रहे हैं। गुजरात में, भाजपा के पार्टी कार्यालयों से टीके वितरित किए जा रहे हैं।