• ममता ने प्रधानमंत्री का किया अपमान, आलोचना करने के लिये शब्द नहीं है: शुभेंदु अधिकारी

अंकित सिंह May 29, 2021 18:14

जब सीएम के आरोपों के बारे में पूछा गया कि बीजेपी और केंद्र उन्हें अपमानित करने की कोशिश कर रहे थे तब शुभेंदु ने कहा कि उनका बयान मनगढ़ंत है और राज्य के लोगों के प्रति उदासीन है।

भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने शुक्रवार को चक्रवाती तूफान के संबंध में हुई समीक्षा बैठक पर कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और मुख्य सचिव ने जिस तरह से प्रधानमंत्री का अपमान किया, उसकी आलोचना करने के लिये शब्द नहीं है। उन्होंने कहा कि कल पश्चिम बंगाल में हवाई सर्वेक्षण (चक्रवात यास के बाद ) के बाद पूर्वी मिदनापुर में समीक्षा बैठक हुई, लेकिन सीएम ममता बनर्जी और प्रशासन ने पीएम को 30 मिनट तक इंतजार कराया। यह संवैधानिक अखंडता का उल्लंघन था और शर्मनाक था।

बैठक में शामिल होने के सवाल का जवाब देते हुए शुभेंदु ने कहा कि मुझे पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता और चक्रवाती तूफान प्रभावित नंदीग्राम क्षेत्र के विधायक के रूप में समीक्षा बैठक के लिए आमंत्रित किया गया था। आज एक प्रेस में सीएम ने कहा कि वह विपक्षी नेताओं की मौजूदगी के कारण बैठक में शामिल नहीं हुईं। वह अपने अहंकार को संतुष्ट करने के लिए झूठ का सहारा ले रही है क्योंकि वह खुद को न केवल पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बल्कि पूरे देश की मुख्यमंत्री मानती है।

इसे भी पढ़ें: केंद्र सरकार ने शुभेंदु अधिकारी के पिता और भाई को दी Y+ सिक्योरिटी

जब सीएम के आरोपों के बारे में पूछा गया कि बीजेपी और केंद्र उन्हें अपमानित करने की कोशिश कर रहे थे तब शुभेंदु ने कहा कि उनका बयान मनगढ़ंत है और राज्य के लोगों के प्रति उदासीन है। ओडिशा और बंगाल सीएम, दोनों को एक ही प्रक्रिया के माध्यम से मिलने के बारे में सूचित किया गया था, वह केवल बहाने का उपयोग कर रही है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चक्रवात यास से उत्पन्न तबाही का हवाई सर्वेक्षण लेने के लिए पश्चिम बंगाल पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने एक बैठक में भी हिस्सा लिया। हालांकि दावा यह किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और मुख्य सचिव का लगभग 30 मिनट इंतजार करना पड़ा। भाजपा ममता बनर्जी पर प्रधानमंत्री पद की गरिमा का अपमान करने का आरोप लगा रही है। वहीं ममता का दावा है कि उन्होंने उस बैठक में हिस्सा लिया था। वह प्रधानमंत्री से इजाजत देने के बाद बैठक से गई थीं।