घोटाले की जांच के मद्देनजर मोदी से मिलीं ममता: भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा)

Modi and Mamta
प्रतिरूप फोटो
ANI
माकपा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले समेत विभिन्न मामलों में केंद्रीय एजेंसियों की जांच की पृष्ठभूमि में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक एक ‘समझ’ विकसित करने का प्रयास थी। केंद्रीय समिति के सदस्य सुजान चक्रवर्ती ने दावा किया कि यह सोचने का कोई कारण नहीं है कि बैठक राज्य के हित में थी।

कोलकाता, 6 अगस्त। माकपा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि पश्चिम बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले समेत विभिन्न मामलों में केंद्रीय एजेंसियों की जांच की पृष्ठभूमि में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक एक ‘समझ’ विकसित करने का प्रयास थी। माकपा की केंद्रीय समिति के सदस्य सुजान चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि यदि यह बैठक राज्य का बकाया प्राप्त करने के लिए हुई होती, तो राज्य सरकार के विभिन्न विभागों के अधिकारी भी संबंधित दस्तावेजों के साथ इसमें उपस्थित होते।

चक्रवर्ती ने दावा किया कि यह सोचने का कोई कारण नहीं है कि बैठक राज्य के हित में थी। इस बात को रेखांकित करते हुए कि बनर्जी या पश्चिम बंगाल के अन्य मंत्री केंद्र सरकार द्वारा बुलाई गई आधिकारिक बैठकों में शामिल नहीं होते हैं, चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि वे राज्य और उसके लोगों के अलावा अन्य हितों के लिए अनौपचारिक बैठकों में जाते हैं। त्रिपुरा और मेघालय के पूर्व राज्यपाल और भाजपा के वरिष्ठ नेता तथागत रॉय ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग किया और ट्वीट किया, ‘‘कोलकाता एक सेटिंग की आशंका से ग्रस्त है।

जिसका अर्थ है मोदी जी और ममता के बीच एक गुप्त समझौता, जिससे तृणमूल के चोर और भाजपा कार्यकर्ताओं के हत्यारे बेदाग हो जाएंगे। कृपया हमें समझाएं कि ऐसी कोई सेटिंग नहीं होगी। बनर्जी ने प्रधानमंत्री से मुलाकात करके राज्य से संबंधित कई मुद्दों को उठाया, जिसमें जीएसटी बकाया और केंद्र द्वारा विभिन्न योजनाओं के तहत समय पर धनराशि जारी करना शामिल है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़