ममता सरकार का नया फैसला, रिश्तेदारों को कोविड-19 के संदिग्ध मरीजों के शव देखने की होगी अनुमति

mamata
ममता बनर्जी ने कहा कि फैसला मानवीय आधार पर लिया गया है। बनर्जी ने कहा कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के दिशा निर्देशों के अनुसार, कोविड-19 के (पॉजिटिव रिपोर्ट वाले) मरीजों और इसके संदिग्ध मरीजों के शवों के अंतिम संस्कार के प्रोटोकॉल में कोई अंतर नहीं है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि उनकी सरकार ने फैसला किया है कि कोविड-19 के संदिग्ध मरीजों के शवों को उनके परिवार के सदस्यों को देखने की अनुमति होगी। बनर्जी ने कहा कि फैसला मानवीय आधार पर लिया गया है। बनर्जी ने कहा कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के दिशा निर्देशों के अनुसार, कोविड-19 के (पॉजिटिव रिपोर्ट वाले) मरीजों और इसके संदिग्ध मरीजों के शवों के अंतिम संस्कार के प्रोटोकॉल में कोई अंतर नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में निषिद्ध क्षेत्रों में पाबंदी 31 अगस्त तक बढ़ा, सप्ताह में दो दिन का लॉकडाउन भी लागू रहेगा

उन्होंने कहा कि दिक्कत यह है कि अगर संदेह है कि मरीज की मौत कोविड-19 के कारण हुई है, तो जांच रिपोर्ट आने में 10 से 12 घंटे लगते हैं। परिवार के सदस्यों को तब तक इंतजार करना पड़ता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब उन्हें इंतजार नहीं करना होगा। हम उन्हें शव कोदेखने के लिये आंधे घंटे का वक्त देंगे, लेकिन यह कवर के अंदर होगा। अंतिम संस्कार आईसीएमआर के दिशा-निर्देशों के मुताबिक होगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़