खत्म हुआ मनमोहन सिंह का कार्यकाल, नायडू बोले- सदन में आपकी कमी खलेगी

manmohan-singhs-retires-from-upper-house
राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने कहा कि सिंह लगातार पांच बार इस सदन के सदस्य रहे। वह 1991 से 2019 तक उच्च सदन के सदस्य रहे।

नयी दिल्ली। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को उच्च सदन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की सराहना की और उनके योगदान की चर्चा की। नायडू ने सदन में कहा कि मनमोहन सिंह और एक अन्य सदस्य एस कुजूर अपने कार्यकाल के समाप्त होने पर 14 जून 2019 को सेवानिवृत्त हो गए। वे उच्च सदन में असम का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सदन को निश्चित रूप से उनकी कमी खलेगी जिन्होंने अपने उल्लेखनीय योगदान से इस सदन की गरिमा और प्रतिष्ठा में वृद्धि की। नायडू ने कहा कि सिंह लगातार पांच बार इस सदन के सदस्य रहे। वह 1991 से 2019 तक उच्च सदन के सदस्य रहे। वह इस दौरान लगातार दो बार देश के प्रधानमंत्री रहे। इसके अलावा वह मार्च 1998 से मई 2004 के बीच राज्य सभा में विपक्ष के नेता रहे। वह 2004 से 2014 तक सदन के नेता भी रहे।

इसे भी पढ़ें: चंद्रबाबू सरकार के समय का आदेश जगन मोहन ने किया निरस्त

नायडू ने कहा कि सिंह बहुत ही भद्र, शांत और शालीन व्यक्ति हैं। उन्होंने राष्ट्र के विकास एवं कल्याण से संबंधित विभिन्न् मुद्दों विशेषकर आर्थिक मामलों में होने वाली चर्चाओं में भाग लेकर सदन की सामूहिक बुद्धिमत्ता को समृद्ध करने में काफी योगदान किया। उन्होंने कुजूर का जिक्र करते हुए कहा कि वह जून 2013 से जून 2019 तक उच्च सदन के सदस्य रहे। उन्होंने आदिवासियों और असम के चाय बागानों में काम करने वाले लोगों के लिए काफी काम किया। नायडू ने दोनों सदस्यों को उनके अच्छे स्वास्थ्य, प्रसन्नता और लंबे समय तक राष्ट्र की सेवा में सक्रिय रहने की कामना की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़