क्रिकेट में कुछ खास नहीं कर पाने वाले मनोज तिवारी शुरू करेंगे सियासी पारी ! TMC में शामिल होने की संभावना

क्रिकेट में कुछ खास नहीं कर पाने वाले मनोज तिवारी शुरू करेंगे सियासी पारी ! TMC में शामिल होने की संभावना

बंगाल के हावड़ा में जन्में मनोज तिवारी ने 3 फरवरी, 2008 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गाबा में डेब्यू किया था। जबकि आखिरी मुकाबला 14 जुलाई, 2015 को जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे स्पोर्ट्स क्लब में खेला था।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में जानी मानी हस्तियां अलग-अलग पार्टियों में शामिल हो रही हैं। इसी बीच खबर सामने आई कि क्रिकेटर मनोज तिवारी ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। बताया जा रहा है कि ममता बनर्जी की बुधवार को हुगली में जनसभा होने वाली है, जहां पर क्रिकेटर तिवारी शामिल हो सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: ममता सरकार पर PM के आरोपों का TMC ने दिया जवाब, डेरेक ओ ब्रायन ने कही ये बात 

बंगाल के हावड़ा में जन्में मनोज तिवारी ने 3 फरवरी, 2008 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ गाबा में डेब्यू किया था। जबकि आखिरी मुकाबला 14 जुलाई, 2015 को जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे स्पोर्ट्स क्लब में खेला था। टीम इंडिया के लिए खेले गए 12 एकदिवसीय मुकाबलों में एक शतक और एक अर्धशतक की बदौलत 287 रन बनाए हैं।

वहीं, अंतरराष्ट्रीय टी 20 मुकाबलों की बात करें तो मनोज तिवारी ने इंग्लैंड के खिलाफ ईडन गार्डन में 29 अक्टूबर 2011 को डेब्यू किया था और आखिरी मुकाबला न्यूजीलैंड के खिलाफ चेन्नई में 11 सितम्बर 2012 में खेला था। एक साल से भी कम के इस अंतरराष्ट्रीय टी 20 कॅरियर में मनोज तिवारी ने 3 मैच खेले हैं। जिनमें से उनको सिर्फ एक ही मुकाबले में बैटिंग करने का मौका मिला था। 

इसे भी पढ़ें: ममता के करीबी की किताब से बढ़ेगी TMC की मुश्किलें, बिस्वास ने शारदा चिट फंड मामले को चारा घोटाला से भी बड़ा बताया 

आईपीएल में भी रहे फ्लॉप !

चेन्नई से अपना आखिरी मुकाबला खेलने वाले मनोज तिवारी ने 98 आईपीएल मुकाबलों ने 28.73 के एवरेट से 1695 बनाए हैं। आईपीएल में मनोज तिवारी का सर्वश्रेष्ठ स्कोर 75 रन का है। क्रिकेट में कुछ खास जलबा नहीं बिखेर पाने वाले मनोज तिवारी अब राजनीतिक पारी की शुरुआत करने वाले हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।