दिल्ली में एनआरसी हुई तो मनोज तिवारी को छोड़ना पड़ेगा शहर: केजरीवाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 25, 2019   19:38
दिल्ली में एनआरसी हुई तो मनोज तिवारी को छोड़ना पड़ेगा शहर: केजरीवाल

पिछले महीने तिवारी ने कहा था कि बांग्लादेशी और रोहिंग्या सहित अवैध प्रवासियों की बड़ी संख्या में मौजूदगी के चलते दिल्ली में स्थिति ‘खतरनाक’हो गई है क्योंकि इन लोगों को आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त पाया गया है।

नयी दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी पर तंज कसते हुए बुधवार को कहा कि यदि यहां राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) लागू हुई तो सबसे पहले उन्हें (तिवारी को) ही शहर छोड़ना पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘यदि दिल्ली में एनआरसी लागू हुई तो सबसे पहले मनोज तिवारी को दिल्ली छोड़ना पड़ जाएगा।’’ हालांकि,भोजपुरी गायक से नेता बने तिवारी ने कहा कि इस टिप्पणी ने केजरीवाल के असली चेहरे को सामने ला दिया है। 

उन्होंने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी प्रमुख ‘‘पूर्वांचली’’ जैसे प्रवासियों को बाहर करना चाहते हैं। पूर्वांचली कहे जाने वाले लोग मुख्य रूप से बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के हैं। दिल्ली के चुनाव में उनकी एक अहम भूमिका रहती है। तिवारी ने फेसबुक लाइव बातचीत में कहा, ‘‘क्या भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) अधिकारी केजरीवाल नहीं जानते हैं कि एनआरसी क्या है? ऐसा लगता है कि केजरीवाल ने अपना मानसिक संतुलन खो दिया है।’’ 

इसे भी पढ़ें: चुनाव में जमानत जब्त होने पर भी सेलिब्रेट करने वाले राजनेता, जिनके आगे पीएम मोदी भी करते हैं सजदा

उन्होंने यह भी कहा,‘‘मैंने उनकी (केजरीवाल की) नीतियों को लेकर उनकी आलोचना की है लेकिन उन्हें कभी अपशब्द नहीं कहे।’’गौरतलब है कि उत्तर-पूर्व दिल्ली से लोकसभा सदस्य तिवारी ने अतीत में कई मौकों पर यह मांग की है कि असम की तरह दिल्ली में भी एनआरसी को लागू किया जाना चाहिए। पिछले महीने तिवारी ने कहा था कि बांग्लादेशी और रोहिंग्या सहित अवैध प्रवासियों की बड़ी संख्या में मौजूदगी के चलते दिल्ली में स्थिति ‘खतरनाक’हो गई है क्योंकि इन लोगों को आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त पाया गया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।