मायावती को सौंपी जाए विपक्षी गठबंधन की कमान: भीम आर्मी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   19:00
मायावती को सौंपी जाए विपक्षी गठबंधन की कमान: भीम आर्मी

इस सवाल पर कि वह मायावती को कमान सौंपने की बात कर रहे हैं जबकि बसपा प्रमुख उन्हें भाजपा का एजेंट बताती हैं, चंद्रशेखर ने कहा कि बसपा हमारा घर है और घर में कुछ गलतफहमियां तो होती रहती हैं।

लखनऊ। भीम आर्मी ने सोमवार को कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन की कमान बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती को दी जानी चाहिए। भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर ने यहां संवाददाताओं से कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन की कमान बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती को दी जानी चाहिए। वह अगले आम चुनावों के मद्देनजर बहुजन समाज के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश कर रहे हैं।

इस सवाल पर कि वह मायावती को कमान सौंपने की बात कर रहे हैं जबकि बसपा प्रमुख उन्हें भाजपा का एजेंट बताती हैं, चंद्रशेखर ने कहा कि बसपा हमारा घर है और घर में कुछ गलतफहमियां तो होती रहती हैं। चंद्रशेखर ने कहा की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव को सपा और बसपा ने मिलकर लड़ा और वहां भाजपा को शिकस्त दी। उनकी कोशिश होगी कि इस गठबंधन में राष्ट्रीय लोक दल तथा कुछ अन्य पार्टियां भी शामिल हों। अगर ऐसा नहीं होता है तो वह बहुजन मूवमेंट की तरफदारी करेंगे। उन्होंने कहा कि भीम आर्मी आगामी लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेगी और और आगामी लोकसभा चुनाव में भाजपा की पराजय सुनिश्चित करने के लिए पूरा दम लगाएगी।

अयोध्या से लौट कर आए चंद्रशेखर ने वहां जाने के कारण के बारे में पूछे जाने पर कहा कि उन्हें जानकारी मिली थी की अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद की धर्म सभा और शिवसेना के कार्यक्रम के कारण लोग डरे हुए हैं। उन्होंने अयोध्या के जिला प्रशासन के अधिकारियों से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा। मंदिर निर्माण को लेकर शिवसेना की अयोध्या में अचानक बढ़ी गतिविधियों के बारे में पूछे जाने पर भीम आर्मी प्रमुख ने कहा कि सब हथकंडा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।