MEA ने किया स्पष्ट, मोदी-इमरान के बीच नहीं होगी द्विपक्षीय बैठक

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 7 2019 8:55AM
MEA ने किया स्पष्ट, मोदी-इमरान के बीच नहीं होगी द्विपक्षीय बैठक
Image Source: Google

कुमार ने यह भी कहा कि पिछले महीने बिश्केक में तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच कोई बैठक नहीं हुई।

नयी दिल्ली। भारत ने बृहस्पतिवार को कहा कि अगले हफ्ते किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में एससीओ शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के उनके समकक्ष इमरान खान के बीच किसी भी द्विपक्षीय बैठक की कोई योजना नहीं है। दरअसल ऐसी संभावना थी कि टेलीफोन पर दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच हुई बातचीत के कुछ दिन बाद ही पाकिस्तान के विदेश सचिव सुहैल मुहम्मद के भारत आने के आलोक में मोदी और खान के बीच द्विपक्षीय बैठक हो सकती है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘‘मेरी जानकारी के हिसाब से हमारे प्रधानमंत्री और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के बीच किसी भी द्विपक्षीय बैठक की योजना नहीं है।’’ जब उनसे स्पष्ट तौर पर पूछा गया कि क्या वह बिश्केक में मोदी-खान बैठक की संभावना से पूरी तरह इनकार कर रहे हैं तो उन्होंने कहा कि उन्हें दोनों नेताओं के बीच होने जा रही किसी बैठक की जानकारी नहीं है।

मोदी और खान 13-14 जून को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। पाकिस्तान के विदेश सचिव की वर्तमान भारत यात्रा के बारे में कुमार ने कहा कि यह उनकी निजी यात्रा है और भारतीय अधिकारियों के साथ उनकी बैठक की कोई योजना नहीं है। मुहम्मद तीन दिन की निजी यात्रा पर मंगलवार को भारत पहुंचे। वह मध्य अप्रैल में पाकिस्तान के विदेश सचिव का पदभार संभालने से पहले भारत में (पाकिस्तान के) उच्चायुक्त थे। पुलवामा हमले के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बहुत बढ़ गया था और दोनों देश करीब करीब युद्ध की कगार पर पहुंच गये थे। दअरसल भारतीय सैन्य विमानों ने 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकवादी प्रशिक्षण शिविर पर हमला किया और अगले ही दिन पाकिस्तान ने जवाब कार्रवाई की। उल्लेखनीय है कि संबंधों में तनाव दूर करने की कोशिश करते हुए खान ने 26 मई को फोन पर मोदी से बातचीत की और इस क्षेत्र में शांति एवं समृद्धि के लिए मिलकर काम करने की अपनी इच्छा प्रकट की। तब मोदी ने इस क्षेत्र में शांति एवं समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए विश्वास तथा हिंसा एवं आतंकवाद से मुक्त माहौल तैयार करने पर जोर दिया।
कुमार ने यह भी कहा कि पिछले महीने बिश्केक में तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच कोई बैठक नहीं हुई। दोनों ही एससीओ के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे थे। कुमार ने कहा कि जिस फोटो में दोनों दिख रहे हैं, वह तब ली गयी जब वे एससीओ के विदेश मंत्रियों क सम्मेलन के कक्ष में बैठे थे। जब प्रवक्ता का ध्यान इस ओर आकृष्ट किया गया कि पाकिस्तान ने मुम्बई हमले के मास्टरमाइंड और जमात उद दवा के प्रमुख हाफिज सईद को बुधवार को लाहौर के कद्दाफी स्टेडियम में ईद की नमाज की अगुवाई नहीं करने दिया तब उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को आतंकवाद को काबू में लाने के लिए सांकेतिक पहल के बजाय ठोस कदम उठाना होगा। करतारपुर गलियारे के संबंध में उन्होंने कहा कि भारत ने पाकिस्तान से कुछ स्पष्टीकरण मांगे हैं और वह उसके जवाब का इंतजार कर रहा है। अमेरिकी प्रतिबंधों के आलोक में ईरान से तेल आयात के बारे में पूछे जाने पर कुमार ने कहा कि फैसला भारत के राष्ट्रीय हितों और ऊर्जा जरूरतों पर आधारित होगा।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप