मेरठ : राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य की जनसुनवाई में अधिक आये घरेलू हिंसा के मामले

मेरठ : राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य की जनसुनवाई में अधिक आये घरेलू हिंसा के मामले

सर्किट हाउस के एनेक्सी हाल में पुलिस एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के समन्वय से चंद्रमुखी देवी ने लगभग 1 घंटा जनसुनवाई की। जनसुनवाई के दौरान सभी मामले घरेलू हिंसा, अवैध संबंधों, पति द्वारा पत्नी की पिटाई करने,दहेज के कारण उत्पीड़न, ससुराल वालों द्वारा बहू से गलत व्यवहार करने के थे

मेरठ, राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी ने बुधवार को सर्किट हाउस में महिला उत्पीड़न के प्रकरणों की जनसुनवाई की। सदस्य ने पुलिस अधिकारियों को महिला उत्पीड़न के प्रकरण में तत्काल कार्रवाई के लिए निर्देशित किया। सर्किट हाउस में हुई जनसुनवाई में आयोग सदस्या के सामने 1 घंटे में 60 मामले घरेलू हिंसा, दहेज उत्पीड़न की शिकायतें आईं।

सर्किट हाउस के एनेक्सी हाल में पुलिस एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के समन्वय से चंद्रमुखी देवी ने लगभग 1 घंटा जनसुनवाई की। जनसुनवाई के दौरान सभी मामले घरेलू हिंसा, अवैध संबंधों, पति द्वारा पत्नी की पिटाई करने,दहेज के कारण उत्पीड़न, ससुराल वालों द्वारा बहू से गलत व्यवहार करने के थे। आयोग सदस्या ने 45 मामलों को मौके पर ही पूरा कर दिया। बाकी 15 मामलों को भी पुलिस से कहा कि इन्हें जल्दी क्लियर कराएं।

वहीं, पीड़ित महिलाओं से सदस्य ने महिला आयोग की हेल्पलाइन के लिए भी बताया। उन्होंने बताया कि आयोग द्वारा हेल्पलाइन नंबर 7827170170 जारी किया गया है जो कि 24 घंटे संचालित है। उन्होंने कहा कि इसका अन्य महिलाओं में भी प्रचार-प्रसार करें। जिससे पीड़ित महिलाओं की शिकायत दर्ज की जा सके। उन्होंने कहा कि वह अपने आपको अकेला न समझे, आयोग उनके साथ है।

चंद्रमुखी देवी ने पुलिस विभाग को निर्देशित किया की महिलाओ की शिकायत पर एक्शन टेकन रिपोर्ट जल्द से जल्द उपलब्ध कराये ताकि आयोग उस पर उचित कार्यवाही प्राथमिकता पर कराये।

सुनवाई के दौरान आयोग सदस्या ने 85 मामलों की एटीआर पुलिस से ली और उसे अपने साथ ले गई। उन्होंने कहा कि इन सभी मामलों की रिपोर्ट को आयोग चैक करेगा। पीड़िता को सही न्याय मिल रहा है या नहीं इसकी जांच की जाएगी। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...