यूपी के मेरठ में स्कूल की शर्मनाक हरकत, बाथरूम गंदा होने पर उतरवाए छात्राओं के कपड़े

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2021   22:49
यूपी के मेरठ में स्कूल की शर्मनाक हरकत, बाथरूम गंदा होने पर उतरवाए छात्राओं के कपड़े

यूपी के मेरठ के एक स्कूल से शर्मनाक घटना का मामला सामने आया है। जहां स्कूल के हॉस्टल की एक छात्रा ने स्कूल प्रबंधन पर आरोप लगाए हैं कि स्कूल का बाथरूम गंदा होने पर स्कूल वालों ने छात्राओं के कपड़े उतरवाकर जांच की।

यूपी के मेरठ के एक स्कूल से शर्मनाक घटना का मामला सामने आया है। जहां स्कूल के हॉस्टल की एक छात्रा ने स्कूल प्रबंधन पर आरोप लगाए हैं कि स्कूल का बाथरूम गंदा होने पर स्कूल वालों ने छात्राओं के कपड़े उतरवाकर जांच की।

एक छात्रा के परिजन के अनुसार किठोर क्षेत्र निवासी एक व्यक्ति ने 6 सितंबर को अपनी बेटी का दाखिला इसी आवासीय विद्यालय में करवाया था।साथ ही 12 सितंबर को उन्होंने यहां अपनी भांजी का भी दाखिला करवाया था।

परिजनों का कहना है कि 19 सितंबर को जब उनकी भांजी ने उनको फोन करके बीमार होने की बात कही तो परिजन बच्ची को विद्यालय से डॉक्टर के पास लेकर पहुंचे। डॉक्टर के पास पहुंच कर बच्ची ने इस घटनाक्रम का खुलासा किया।

बच्ची ने परिजनों को बताया कि स्कूल में किसी छात्रा को मासिक धर्म था और बाथरुम में पानी न होने के चलते बाथरूम गंदा हो गया ।इसके लिए स्कूल प्रबंधन ने सभी छात्राओं के कपड़े उतरवाकर जांच की।

इसे भी पढ़ें: सिंघू, टिकरी प्रदर्शन स्थलों के आसपास के ग्रामीणों ने खट्टर को अपनी तकलीफें बतायीं

पीड़ित परिवार ने बताया कि इस शर्मनाक घटना के बाद वह अपनी बेटी को स्कूल से निकालने के लिए स्कूल पहुंचे। जिससे पहले स्कूल प्रबंधक ने उनसे फोन पर अभद्रता भी की। इसी विवाद के चलते अनेक परिजन अपने बच्चों को स्कूल से निकालने पहुंच गए ।इसके बाद घटनाक्रम के बारे में पुलिस को सूचना दी गई।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकवादी ढेर

हालांकि स्कूल प्रबंधन ने सभी आरोपों को झूठा करार दिया है और विद्यालय की प्राचार्य का कहना है कि सभी आरोप निराधार हैं। कई विरोधियों के साथ मिलकर इस तरह के बेबुनियाद आरोप लगाए जा रहे हैं। पुलिस प्रशासन ने एसपी देहात को मामले की जांच सौंप दी है। पुलिस का कहना है कि उपलब्ध तथ्यों के आधार पर कार्यवाही की जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।