मेरठ : नये गन्ना पेराई सत्र में किसानों को मोबाइल पर SMS से मिलेगी गन्ना पर्ची

मेरठ : नये गन्ना पेराई सत्र में किसानों को मोबाइल पर SMS से मिलेगी गन्ना पर्ची

पर्ची उनके मोबाइल पर समय से प्राप्त हो जाए। पर्ची जारी करने की व्यवस्था पूरी तरह पारदर्शी है। किसान के मोबाइल नम्बर पर एसएमएस पर्ची भेजे जाने से किसान को तत्काल पर्ची प्राप्त होगी और समय से पर्ची मिल जाने के कारण ताजा गन्ने की आपूर्ति होगी

मेरठ,आगामी पेराई सत्र 2021-22 में किसानों को गन्ना पर्ची उनके पंजीकृत मोबाइल पर एसएमएस के जरिए ही भेजी जाएगी। इसलिए यह जरूरी है कि ई.आर.पी.पर गन्ना किसानों का सही मोबाइल नम्बर पंजीकृत हो। साथ ही क्रय केंद्रों पर भी प्रतिदिन होने वाली तौल की एक्नालेजमेन्ट शीट चस्पा की जाएगी,जिसके माध्यम से भी गन्ना कृषक अपनी पर्ची के विषय में जान सकेंगे। 

उप गन्ना आयुक्त मेरठ, संजय आर.भूसरेड्डी ने बताया कि अपने मोबाइल पर ई पर्ची समय से पहुंचती रहे इसलिए आवश्यक है कि ईआरपी पर गन्ना कृषकों का सही मोबाइल नंबर पंजीकृत हो। उन्होंने गन्ना किसानों से अपील की है कि वे ईआरपी पर पंजीकृत अपने मोबाइल नंबर की जांच कर लें, अगर मोबाईल नम्बर गलत है तो अपने गन्ना पर्यवेक्षक के जरिये अथवा E-ganna मोबाईल एप पर अपना सही मोबाइल नम्बर अपडेट कर लें। उन्होंने कहा कि एसएमएस इन बॉक्स भरा होने या मोबाईल स्विच आफ होने पर या फिर डीएनडी एक्टिवेट होने पर एसएमएस पर्ची का संदेश चौबीस घण्टे बाद स्वत: निरस्त हो जाएगा जिसके कारण गन्ना किसानों को अपनी पर्ची की जानकारी प्राप्त नहीं हो पाएगी। 

इसलिए सभी किसान समय से अपनी पर्ची प्राप्त करने के लिए अपना मोबाईल इनबाक्स खाली रखें और मोबाईल को चार्ज करके चालू दशा में रखें तथा डीएनडी को एक्टिवेट न करें ताकि सर्वर द्वारा भेजी गयी पर्ची उनके मोबाइल पर समय से प्राप्त हो जाए। पर्ची जारी करने की व्यवस्था पूरी तरह पारदर्शी है। किसान के मोबाइल नम्बर पर एसएमएस पर्ची भेजे जाने से किसान को तत्काल पर्ची प्राप्त होगी और समय से पर्ची मिल जाने के कारण ताजा गन्ने की आपूर्ति होगी जिससे किसान गन्ने के सूखने से होने वाले नुकसान से भी बच पाएंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।