मेरठ :सिसौली गांव में तंत्र-मंत्र के चक्कर में मासूम की ताई ने ही दी बलि, पुलिस ने किया खुलासा

मेरठ :सिसौली गांव में तंत्र-मंत्र के चक्कर में मासूम की ताई ने ही दी बलि, पुलिस  ने किया खुलासा

मेरठ में तंत्र-मंत्र के चक्कर में एक महिला ने अपने बेटे के साथ मिलकर पांच साल के बच्चे की बलि दे दी। बताया गया कि महिला के बच्चे होकर मर जाते थे, इसी चक्कर में उसने बच्चे को मौत के घाट उतार दिया।

मेरठ,मुंडाली के सिसौली में 7 नवंबर को पांच साल के मासूम बच्चे भानू की हत्या का पुलिस ने खुलासा करते हुए बच्चे की सगी ताई और उसके बेटे को गिरफ्तार किया है। बच्चे की हत्या उसकी सगी ताई ने अपने 14 साल के बेटे के साथ मिलकर तंत्र मंत्र के चलते की थी। पुलिस ने आला -ए -क़त्ल भी बरामद कर लिया है। 

पुलिस की पूछताछ में आरोपी महिला ने सनसनीखेज खुलासा किया कि अंधविश्वास के चलते उसने देवर के बेटे की बलि दी। जिस दराती से बच्चे का गला काटकर हत्या की गई, उसे भी बरामद कर लिया गया है। आरोपी महिला ने कबूल किया कि उसके कई बच्चों की पूर्व में मौत हो चुकी थी और अब दोनों बेटों की तबियत खराब रहती है। ऐसे में बेटों की बीमारी ठीक करने और उनकी उम्र बढ़ाने के लिए देवर के बेटे की बलि दी।

ज्ञात रहे की मुंडाली थाना क्षेत्र के सिसौली गांव निवासी वीर सिंह गांव में खेती करने के साथ बैंक की गाड़ी चलाते हैं। वीर सिंह का बेटा भानू प्रताप उर्फ बुद्धू (5) 7 नवंबर की दोपहर 2 बजे घर के बाहर खेल रहा था। तभी गायब हो गया। गांव के लोगों ने बच्चे की काफी तलाश की, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा था। जिसके बाद उसी दिन शाम 6 बजे परिजनों ने अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

8 नवंबर की सुबह लहूलुहान हालत में बच्चे का शव मकान के सामने ताऊ नरेश के भूसे के कोठे में मिला। जिसके बाद परिजनों व ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया और घटना के खुलासे की मांग की। पुलिस ने रंजिश व तंत्र -मंत्र को लेकर जांच की। जिसके बाद पुलिस की जांच में सामने आया की किसी अपने ने ही बच्चे की हत्या की है।

एसओ मुंडाली सुभाष सिंह ने बताया की बच्चे की हत्या के मामले में बच्चे की ताई मुकेश पत्नी नरेश को गिरफ्तार कर लिया है। महिला मुकेश के 14 साल के बेटे को भी गिरफ्तार किया है। आरोपियों न पूछताछ में बताया की घटना के दिन यानी 7 नवंबर को बच्चा घर के बाहर था, तभी बच्चे का ताऊ का बेटा अपने घेर में ले गया। वहां पहले से आरोपी की मां मुकेश थी। भूसे के कोठे में ले जाकर 14 साल के किशोर ने अपने चचेरे भाई भानू प्रताप के दोनों हाथ पकड़ लिए। जैसे ही बच्चे चीखने लगा तो आरोपी किशोर ने मूंह बंद कर दिया जिससे बच्चा चीख न न सके। तभी बच्चे की ताई ने दराती से गला काट दिया। जिसके बाद शव को कमरे में रखकर ऊपर से कपड़े ढक दिए।

आरोपी मुकेश ने पूछताछ में बताया की मेरे पूर्व में 8 बच्चे जन्म लेने के बाद ही मर चुके हैं, दो बेटे हैं यह भी बीमार रहते हैं। तीन माह पहले किसी ने मंदिर में कहा था की यदि बच्चे की बलि दे दो, तो दोनों बच्चे बच जायेंगे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...