महाराष्ट्र में काम पर लौटने की उम्मीद के साथ घर जा रहे प्रवासी मजदूर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   11:55
महाराष्ट्र में काम पर लौटने की उम्मीद के साथ घर जा रहे प्रवासी मजदूर

उत्तर प्रदेश में गोरखपुर जा रही ट्रेन में सवार होने से पहले पुणे रेलवे स्टेशन पर बातचीत में 24 वर्षीय सराजुद्दीन शाह ने बताया कि वह यहां लक्ष्मी रोड पर एक दुकान में दर्जी का काम करते हैं और ग्राहक न मिलने की वजह से उन्होंने अपने मूल निवास स्थान पर लौटने का फैसला किया।

पुणे। महाराष्ट्र के पुणे शहर से नौकरी गंवाने के बाद अपने गृह राज्यों को लौटे कई प्रवासी मजदूरों को उम्मीद है कि स्थिति सामान्य हो जाएगी और वे काम पर लौट पाएंगे। लेकिन उनका कहना है कि चूंकि उनके पास फिलहाल कोई काम नहीं है और वे आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं, उनके पास अपने घरों को लौटने और बेहतर समय आने का इंतजार करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। उत्तर प्रदेश में गोरखपुर जा रही ट्रेन में सवार होने से पहले पुणे रेलवे स्टेशन पर बातचीत में 24 वर्षीय सराजुद्दीन शाह ने बताया कि वह यहां लक्ष्मी रोड पर एक दुकान में दर्जी का काम करते हैं और ग्राहक न मिलने की वजह से उन्होंने अपने मूल निवास स्थान पर लौटने का फैसला किया। यह पूछने पर कि क्या वह पुणे लौटना चाहेंगे, शाह ने कहा, “मैं क्यों नहीं लौटकर आऊंगा? मैं पिछले तीन साल से यहां दर्जी का काम कर रहा हूं। शहर ने मुझे रोजी रोटी दी है। एक बार स्थिति सामान्य हो जाए, मैं शहर लौट आऊंगा।” 

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना मरीजों की तादाद 1.39 लाख के करीब, 24 घंटे में रिकॉर्ड 6977 ताजा केस

शाह के अलावा कम से कम 10 अन्य दर्जी थे जो लक्ष्मी रोड पर अलग-अलग दुकानों में काम करते थे, वे भी उत्तर प्रदेश लौटने के लिए ट्रेन का इंतजार कर रहे थे। उनका कहना है कि अगर पुणे में अभी दुकानें खुल भी जाएं तो इस बात की बहुत कम संभावना है कि उन्हें जल्द ग्राहक मिल पाएंगे। समूह के एक अन्य दर्जी, मोहन प्रसाद (30) ने कहा कि वह अपने घर इसलिए लौट रहे हैं क्योंकि उनका परिवार वहां उन्हें लेकर चिंतित है और उनसे लौटने को कहा है। उन्होंने कहा, “मैं पिछले पांच-छह साल से लक्ष्मी रोड पर दर्जी की दुकान में काम कर रहा था। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के पुणे से 992 प्रवासियों को लेकर विशेष रेलगाड़ी मणिपुर पहुंची

लॉकडाउन के बाद, मुझे राशन किट मिल रहा था, लेकिन दिन पर दिन गुजारा मुश्किल होता जा रहा था और चूंकि ‘बीमारी’ (कोविड-19) दिनोंदिन बढ़ रही है, मेरे परिजन और पत्नी घर पर चिंतित हो रही थी और उन्होंने मुझे घर लौटने को कहा।” हालांकि, प्रसाद ने कहा कि स्थिति सामान्य होने के बाद वह पुणे लौटने को बेताब हैं। बिहार के रहने वाले रमैया यादव ने कहा कि वह पुणे के शिवाजी नगर इलाके में रह रहे थे जो कोविड-19 से अत्यधिक प्रभावित है। बिहार जाने वाली ट्रेन की प्रतीक्षा करते हुए उन्होंने कहा, “इलाके में रहना बहुत मुश्किल हो रहा था और लॉकडाउन के बीच किसी दूसरी जगह पर रहने जाना बहुत मुश्किल था इसलिए मैंने घर जाने का फैसला चुना।” यादव ने कहा, “लेकिन मैं स्थिति सामान्य होने पर पुणे लौटकर आऊंगा।” पुणे जिला प्रशासन ने अब तक 1.2 लाख प्रवासी मजदूरों को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से उनके गृह राज्यों को भेजा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...