बिहार: SSP और DM के लिए रोकी गई मंत्री की गाड़ी, बढ़ा विवाद, मुख्य सचिव ने कहा- अंजाने में हुआ

बिहार: SSP और DM के लिए रोकी गई मंत्री की गाड़ी, बढ़ा विवाद, मुख्य सचिव ने कहा- अंजाने में हुआ

जीवेश मिश्रा ने गुस्से में कहा कि एसपी और डीएम की वजह से उनके गाड़ी को विधानसभा में आने से रोका गया। उन्होंने कहा कि हम तो सरकार में हैं। हमारी गाड़ी क्यों रोकी गई?

बिहार विधानसभा का शीतकालीन सत्र हो रहा है। इसी कड़ी में आज बिहार सरकार में श्रम संसाधन मंत्री जीवेश मिश्रा उस समय भड़क गए जब उन्हें विधानसभा जाने के लिए पुलिसकर्मियों ने रोक दिया। जीवेश कुमार मिश्रा के काफिले को रोके जाने को लेकर बिहार में बवाल मच गया। जीवेश मिश्रा ने गुस्से में कहा कि एसपी और डीएम की वजह से उनके गाड़ी को विधानसभा में आने से रोका गया। उन्होंने कहा कि हम तो सरकार में हैं। हमारी गाड़ी क्यों रोकी गई? इसके साथ ही जीवेश मिश्रा ने यह तक कह दिया कि जब तक संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाएगी, तब तक वह सदन में नहीं जाएंगे।

इसके साथ ही यह मामला शीतकालीन सत्र में सदन के भीतर भी उठा। बिहार विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को संबोधित करते हुए मंत्री ने कहा कि मुझे लगा कि संभवतः मुख्यमंत्री या आप आ रहे हैं पर जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के लिए मेरे वाहन को रोका गया। उन्होंने अध्यक्ष से कहा कि वह उन्हें आश्वासन दें कि दोषी अधिकारियों को निलंबित कर उनके खिलाफ कार्रवाई हो, नहीं तो अगर जनप्रतिनिधियों को इस तरह से अपमानित किया जाएगा तो यह उचित नहीं है। इसके अलावा जैसे ही जीवेश मिश्रा सदन के भीतर पहुंचे, विपक्ष भी उनके साथ खड़ा हो गया। जीवेश मिश्रा के समर्थन में विपक्षी सदस्यों ने नारा लगाते हुए कहा कि मंत्री को न्याय दो, न्याय दो। दूसरी ओर इस पर प्रशासन की ओर से सफाई भी आ गई है। गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव ने बताया कि अंजाने में यह हुआ। किसी ने जानबूझकर नहीं किया। हम जांच करेंगे।

इसे भी पढ़ें: बिहार में डॉक्टरों की लापरवाही ने छीन ली 26 लोगों की रोशनी, 15 मरीजों की आंखें निकालनी पड़ीं

इस बीच भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल इसको लेकर कडा विरोध जताते हुए कहा कि जीवेश मिश्रा जी के साथ विधानसभा प्रांगण में जो भी घटना घटी है उस पर मुझे पूरा विश्वास है की विधानसभा अध्यक्ष अवश्य ही संज्ञान लेंगे। जायसवाल ने कहा कि आईएएस और आईपीएस अधिकारी पूरे भारत में जनता एवं जनप्रतिनिधियों के साथ हर तरह के शिष्टाचार का पालन करते हैं पर बिहार में अधिकारी जनता के सेवक के बदले राजतंत्र की तरह व्यवहार करते हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।