गणतंत्र दिवस के अवसर पर कश्मीर में मोबाइल सेवाएं निलंबित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 26, 2020   12:11
गणतंत्र दिवस  के अवसर पर कश्मीर में मोबाइल सेवाएं निलंबित

घाटी में 2005 से गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मोबाइल फोन और इंटरनेट सेवा बंद करना सुरक्षा ड्रिल का हिस्सा है। दरअसल 2005 में आतंकवादियों ने मोबाइल फोन के जरिए स्वतंत्रता दिवस समारोह के निकट आईईडी विस्फोट किया था।

श्रीनगर। गणतंत्र दिवस का उत्सव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए एहतियात के तौर पर कश्मीर घाटी में रविवार को फोन सेवाएं निलंबित कर दी गईं। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार को इंटरनेट सेवा बहाल होने के कुछ घंटे बाद ही मोबाइल इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गई थीं। रविवार तड़के मोबाइल फोन संपर्क सेवा निलंबित कर दी गई।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति ने राष्ट्र के नाम दिया संदेश, सरकार की योजनाओं का किया जिक्र

घाटी में 2005 से गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मोबाइल फोन और इंटरनेट सेवा बंद करना सुरक्षा ड्रिल का हिस्सा है। दरअसल 2005 में आतंकवादियों ने मोबाइल फोन के जरिए स्वतंत्रता दिवस समारोह के निकट आईईडी विस्फोट किया था। इसी बीच गणतंत्र दिवस का उत्सव शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

इसे भी पढ़ें: 5 महीने बाद कश्मीर में 2G मोबाइल इंटरनेट सेवा बहाल, 301 वेबसाइट ही चला पाएंगे यूजर्स

घाटी में मुख्य आधिकारिक कार्यक्रम स्थल की ओर जाने वाली सभी सड़कों पर सुरक्षा बल तैनात हैं ताकि विध्वंसकारी ताकतें अपने षडंयंत्रों में सफल न हो पाएं। घाटी में ऊंची इमारतों पर भी सुरक्षाबल तैनात हैं। हालांकि घाटी में सड़कों से लोग नदारद हैं क्योंकि ज्यादातर लोगों ने घरों में रहने को ही तरजीह दी है। हुर्रियत कांफ्रेंस जैसे अलगाववादी समूह 26 जनवरी और 15 अगस्त के मौके पर बंद का आह्वान करते हैं लेकिन इस साल इस तरह कोई आह्वान नहीं हुआ क्योंकि अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को पांच अगस्त को खत्म किए जाने के बाद से ऐसे नेता हिरासत में हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।