• अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव को मोदी ने किया संबोधित, कहा- यह महिला सशक्तीकरण के नए भारत का युग

महाकवि भारती को उनकी 138 वीं जयंती पर नमन करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह किसी एक पेशे से नहीं जुड़े थे, बल्कि सब कुछ थे। उन्होंने कहा, ‘‘वह एक कवि, लेखक, संपादक, पत्रकार, समाज सुधारक, स्वाधीनता सेनानी और बहुत कुछ कुछ थे।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र सरकार ने महिलाओं की गरिमा को महत्व दिया है और उनके ही नेतृत्व में सशक्तीकरण को सुनिश्चित करने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि यह महिला सशक्तीकरण के नए भारत का युग है। मोदी अंतर्राष्ट्रीय भारती महोत्सव को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित कर रहे थे। इस महोत्‍सव को महाकवि सुब्रह्मण्य भारतीके सम्मान में चेन्नई स्थित वानविल सांस्‍कृतिक केन्‍द्र द्वारा आयोजित किया गया था।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि केंद्र सरकार महाकवि भारती की महिला सशक्तीकरण की दृष्टि से प्रेरित है और उनके ही नेतृत्व में सशक्तीकरण को सुनिश्चित करने का काम कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारी सरकार ने महिलाओं की गरिमा को महत्व दिया है और मुद्रा योजना के अंतर्गत 15 करोड़ महिलाओं को ऋण दिए गए हैं। महिलाएं आज सशस्त्र बलों का हिस्सा बन रही हैं। वे आज मस्तक ऊंचा कर घूम रही हैं और यह विश्वास पैदा कर रही हैं कि देश सुरक्षित हाथों में है। यह महिला सशक्तिकरण के नए भारत का युग है।’’ 

इसे भी पढ़ें: आतंकवाद के खिलाफ दृढ़ता से एक साथ खड़े हैं भारत और उज्बेकिस्तान: मोदी

महाकवि भारती को उनकी 138 वीं जयंती पर नमन करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वह किसी एक पेशे से नहीं जुड़े थे, बल्कि सब कुछ थे। उन्होंने कहा, ‘‘वह एक कवि, लेखक, संपादक, पत्रकार, समाज सुधारक, स्वाधीनता सेनानी और बहुत कुछ कुछ थे। वाराणसी से भी वह गहराई से जुड़े हुए थे। युवा पीढ़ी उनसे बहुत कुछ सीख सकती है।’’ इस वर्ष का भारती पुरस्‍कार जानेमाने लेखक सीनी विश्‍वनाथन को दिया गया है।