मोदी का अमेरिकी उद्योगपतियों से भारत में निवेश का आह्वान, कहा- सुनहरे अवसर का लाभ उठायें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 25, 2019   20:33
मोदी का अमेरिकी उद्योगपतियों से भारत में निवेश का आह्वान, कहा- सुनहरे अवसर का लाभ उठायें

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत को पिछले पांच साल में 286 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) मिला है, जो इससे पिछले 20 सालों में मिले एफडीआई का आधा है।

न्यूयॉर्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दुनिया के बड़े औद्योगिक घरानों को भारत में निवेश के लिये आमंत्रित करते हुये कहा कि कंपनी कर की दरों में भारी कटौती से उनके लिये निवेश का यह सुनहरा अवसर है। उन्होंने देश में कारोबारी माहौल को सुधारने के लिए और उपाय करने का भी वादा किया। मोदी ने यहां ब्लूमबर्ग ग्लोबल बिजनेस फोरम को संबोधित करते हुये कहा कि भारत ने देश में निवेश के लिए बेहतर अवसर सृजित किये हैं। मोदी ने कहा कि मुझे भारत की भावनाओं, संभावनाओं, अपेक्षाओं और उम्मीदों पर तथा भारत की ग्रोथ स्टोरी और भारत के फ्यूचर डायरेक्शन पर अपनी बात रखने का अवसर दिया, इसके लिए मैं आपका बहुत आभारी हूं। आज भारत की ग्रोथ स्टोरी के चार महत्वपूर्ण फैक्टर हैं जो एक साथ दुनिया में मिलने मुश्किल हैं। ये 4 फैक्टर हैं- Democracy, Demography, Demand और Decisiveness। 

प्रधानमंत्री एक सप्ताह की अमेरिका की यात्रा पर यहां पहुंचे हैं। उन्होंने प्रमुख कंपनियों के दिग्गजों से कहा, यदि आप दुनिया के बड़े बाजारों में निवेश करना चाहते हैं तो भारत आइये ...यदि आप स्टार्टअप में निवेश करना चाहते हैं तो भारत आइये ...यदि आप दुनिया के सबसे बड़े बुनियादी ढांचा तंत्रों में से एक में निवेश करना चाहते हैं तो भारत का रुख कीजिये। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार ने इस महीने की शुरुआत में कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर को करीब 35 प्रतिशत से घटाकर 25.17 प्रतिशत पर ला दिया।इससे कराधान के मोर्चेपर भारत प्रमुख वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं की बराबरी पर आ गया है। उन्होंने कहा कि आप लोग अपनी बातचीत में अक्सर business sentiment की बात करते हैं। इस चुनाव में 130 करोड़ भारतीयों ने केवल अपना sentiment ही नहीं जताया, बल्कि जजमेंट भी दे दिया है कि विकास ही उनकी सबसे बड़ी प्राथमिकता है

इसे भी पढ़ें: राजनाथ ने फिर कहा, Pok के वजूद को स्वीकार नहीं करता भारत

उन्होंने कहा कि नवीकरणीय ऊर्जा के 175 गीगावाट के लक्ष्य में से 120 गीगा वाट हासिल कर लिया गया है। निकट भविष्य में हम 450 गीगावाट का लक्ष्य लेकर चल रहे है। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत को पिछले पांच साल में 286 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) मिला है, जो इससे पिछले 20 सालों में मिले एफडीआई का आधा है। उन्होंने कहा कि जब लोकतंत्र हो, राजनीतिक स्थिरता हो, सुनिश्चित नीति हो, स्वतंत्र न्यायपालिका हो तो निवेश की सुरक्षा और वृद्धि की गारंटी आपको मिलती है। मोदी ने कहा कि हमारी नई सरकार को अभी 3-4 महीने ही हुए हैं। मैं कहना चाहता हूं कि ये तो अभी शुरुआत हुई है। अभी लंबा समय आगे बाकी है,  इस सफर में भारत के साथ पार्टनरशिप करने के लिए ये पूरे विश्व के बिजनेस वर्ल्ड के लिए सुनहरा मौका है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।