मोदी का राहुल पर तंज, कहा- जिन्हें मूंग और चने में फर्क नहीं पता, वे किसान की बात कर रहे हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   16:12
मोदी का राहुल पर तंज, कहा- जिन्हें मूंग और चने में फर्क नहीं पता, वे किसान की बात कर रहे हैं

आदिवासी मांग करते थे कि हमारे लिए अलग मंत्रालय हो, अलग मंत्री हो, अलग बजट हो, हमारे विकास के लिए योजनाएं बनें, लेकिन कांग्रेस पार्टी को तो आदिवासियों की कोई परवाह नहीं थी।

जयपुर। आदिवासियों के मुद्दे पर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कहा कि विपक्षी पार्टी ने कभी आदिवासियों की परवाह नहीं की और जिन्हें मूंग और चने में फर्क नहीं पता, वे किसान की बात कर रहे हैं। मोदी राजस्थान के आदिवासी बहुल डूंगरपुर जिले में बेणेश्वर धाम में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘आजादी के इतने सालों तक जब तक अटल बिहारी वाजपेयी देश के प्रधानमंत्री नहीं बने तब तक कांग्रेस को कभी आदिवासियों की याद नहीं आई। आदिवासी मांग करते थे कि हमारे लिए अलग मंत्रालय हो, अलग मंत्री हो, अलग बजट हो, हमारे विकास के लिए योजनाएं बनें, लेकिन कांग्रेस पार्टी को तो आदिवासियों की कोई परवाह नहीं थी।

यह भी पढ़ें: एक और कांग्रेस नेता का विवादित बयान, मोदी के पिता के बारे में कोई नहीं जानता

प्रधानमंत्री बनने के बाद वाजपेयी ने अलग आदिवासी मंत्रालय बनाया, आदिवासी मंत्री बनाया और आदिवासियों के लिए अलग बजट बनाया। तब से लेकर आदिवासियों के विकास की गाथा शुरू हुई।’’ मोदी ने कहा, ‘‘हम इस देश के हर नागरिक को सशक्त बनाना चाहते हैं। हम देश के हर नागरिक को सामर्थ्यवान बनाना चाहते हैं। अपने आदिवासी भाइयों को शक्तिशाली बनाना चाहते हैं, इसलिए हमारा रास्ता साफ है। हमारा मंत्र है ‘बेटे बेटियों की पढाई, युवा को कमाई, किसानों को सिंचाई, बुजुर्गों को दवाई व जन जन की सुनवाई।’ 

कांग्रेस में परिवारवाद पर प्रहार करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘दिल्ली में चार चार पीढ़ी तक एक ही परिवार ने राज ने किया। 55-60 साल तक एक ही पार्टी का इस देश में दबदबा रहा। गली से लेकर दिल्ली तक पंचायत से लेकर संसद तक कांग्रेस का ही झंडा फहराता था। लेकिन इसके बावजूद शौचालय, सड़क, बिजली, शिक्षा जैसी मूलभूत सुविधाओं से देश की जनता वंचित रही और इस सारी मुसीबत का कारण, इन 50-60 साल तक कांग्रेस का शासन है।’’ उन्होंने लोगों से सवाल किया क्या आप फिर से ऐसी मुसीबत चाहते हैं। मोदी ने कहा, ‘‘इन समस्याओं से केवल भाजपा ही निजात दिला सकती है। दिल्ली में मोदी की ताकत और राजस्थान में भाजपा की ताकत मिलकर निकाल सकती है।’’

यह भी पढ़ें: न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम पर डराकर राम मंदिर की सुनवाई रुकवाती है कांग्रेस: मोदी

मोदी ने कहा कि उनका संकल्प है कि 2022 तक देश के हर परिवार के पास उसका अपना पक्का मकान हो। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने मन में ठान ली है कि अगर आपका आशीर्वाद मिल जाए तो हिंदुस्तान के हर परिवार के पास अपना पक्का घर होने का सपना पूरा कर करेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैंने व्रत लिया है, संकल्प लिया है कि 2022 में जब आजादी के 75 साल होंगे, तब तक हिंदुस्तान में एक भी परिवार ऐसा नहीं होगा जिसका अपना खुद का पक्का घर नहीं होगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब कांग्रेस की सरकार थी और मैडम सोनिया गांधी दिल्ली में रिमोट से सरकार चला रही थीं तब देश में मोबाइल बनाने की फैक्ट्रियां चार थी। आज यह संख्या 125 है। बताइए नामदार के वादे सही या हमारे वादे सही। हम वादा करते हैं लेकिन आपको हिसाब भी देते हैं।’’

यह भी पढ़ें: राहुल गांधी का किसानों से वादा, सत्ता में आते ही दस दिनों में कर्ज माफ करेगी कांग्रेस

उन्होंने आरोप लगाया कि, ‘‘कांग्रेस के दिमाग में ऐसा जातिवाद भर गया है। जातिवाद का जहर उनकी रगों में है। उनको घुट्टी में ही पिला दिया जाता है। जातिवाद का जहर जाता नहीं है और उन्हें कभी महर्षि बाल्मिकी, कबीर, संत रविदास भी मिल जाएं तो उनसे भी पूछ लेंगे आपकी जाति क्या है।’’ मोदी ने कहा, ‘‘हम ’सबका साथ सबका विकास’ के मंत्र को लेकर आगे चल रहे हैं जबकि इनको एक परिवार के आगे कुछ दिखता ही नहीं है। वह एक परिवार एक नामदार की पार्टी बन गयी है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘अगर सरदार पटेल इस देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो गलत नीतियों वाली सरकार नहीं बनती और इस देश का किसान कभी मुसीबत में नहीं आता। देश का किसान कर्जदार नहीं बनता। देश का किसान औरों को धन देने वाला बन सकता था। देश का दुर्भाग्य रहा कि कांग्रेस के ऐसे नेता आए जिनको ये तक पता नहीं है कि चने का पौधा होता है कि चने का पेड़ होता है। मूंग और चने में जिन्हें फर्क पता नहीं है वे किसान की बात कर रहे हैं।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।