पोखरण परमाणु परीक्षण के पुरे हुए 24 साल, PM मोदी ने वैज्ञानिकों को दी बधाई, अटल बिहारी वाजपेयी बने थे प्रत्यक्षदर्शी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   10:32
पोखरण परमाणु परीक्षण के पुरे हुए 24 साल, PM मोदी ने वैज्ञानिकों को दी बधाई, अटल बिहारी वाजपेयी बने थे प्रत्यक्षदर्शी
ANI

पोखरण परमाणु परीक्षण की वर्षगांठ पर पीएम मोदी ने वैज्ञानिकों को सलाम किया।मोदी ने ट्वीट किया, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस पर आज हम अपने उत्कृष्ट वैज्ञानिकों और उनके प्रयासों के प्रति आभार व्यक्त करते हैं। उनके प्रयासों से 1998 में हमें पोखरण परमाणु परीक्षण में सफलता हासिल हुई।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पोखरण परमाणु परीक्षण की वर्षगांठ पर मनाए जाने वाले राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के अवसर पर बुधवार को देश के वैज्ञानिकों और उनके प्रयासों की सराहना की। उन्होंने इस मौके पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी याद किया और उनके राजनीतिक साहस की प्रशंसा की। मोदी ने ट्वीट किया, राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस पर आज हम अपने उत्कृष्ट वैज्ञानिकों और उनके प्रयासों के प्रति आभार व्यक्त करते हैं। उनके प्रयासों से 1998 में हमें पोखरण परमाणु परीक्षण में सफलता हासिल हुई।

इसे भी पढ़ें: राजस्थान के भीलवाड़ा में हिंदू लड़के की मौत के बाद तनाव, 24 घंटे के लिए इंटरनेट बैन

उन्होंने कहा, हम अटल जी के कुशल नेतृत्व को भी गर्व के साथ याद करते हैं, जिन्होंने उत्कृष्ट राजनीतिक साहस और राजनीतिक कौशल का परिचय दिया। ज्ञात हो कि भारत के वैज्ञानिक कौशल और तकनीकी प्रगति को चिह्नित करने के लिए 1999 से 11 मई के दिन को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस के रूप में मनाया जाता है। वर्ष 1998 में आज ही के दिन भारत ने वाजपेयी के नेतृत्व में पोखरण में पांच परमाणु परीक्षणों में से पहला परीक्षण किया था।भारत यह उपलब्धि हासिल कर परमाणु सम्पन्न देशों में शामिल होने वाला छठा देश बना था। भारत ने आज ही के दिन स्वदेश निर्मित हंस-3 विमान और छोटी दूरी की मिसाइल ‘त्रिशूल’ का भी सफल परीक्षण किया था, जो देश के लिए एक कीर्तिमान साबित हुआ। इन परीक्षणों से भारत ने पूरे विश्व में अपनी ताकत का प्रदर्शन किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।