UP के फर्नीचर कारोबारी के आरोप सही साबित होने पर SDM को किया गया निलंबित, पैसे मांगने पर चलवाया था बुलडोजर

bulldozers
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
मुरादाबाद के संभाग आयुक्त आंजनेय कुमार सिंह के माध्यम से जिलाधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह द्वारा जांच रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेश चतुर्वेदी द्वारा वर्मा के लिए निलंबन आदेश जारी किया गया था। घनश्याम वर्मा को 17 जुलाई को उप-जिलाधिकारी के पद से हटा दिया गया था और मंगलवार की देर शाम निलंबित किया गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद के उप-जिलाधिकारी (एसडीएम) घनश्याम वर्मा को निलंबित कर दिया गया है। क्योंकि उन पर लगे आरोप जांच के दौरान सही साबित हुए। जिसके बाद खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई करते हुए घनश्याम वर्मा को निलंबित कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: योगी मॉडल की तर्ज पर असम में दौड़ा बुलडोजर, आतंकी गतिविधियों में शामिल मदरसा को किया ध्वस्त 

मुरादाबाद के संभाग आयुक्त आंजनेय कुमार सिंह के माध्यम से जिलाधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह द्वारा जांच रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेश चतुर्वेदी द्वारा वर्मा के लिए निलंबन आदेश जारी किया गया था। घनश्याम वर्मा को 17 जुलाई को उप-जिलाधिकारी के पद से हटा दिया गया था और मंगलवार की देर शाम निलंबित किया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, निलंबन आदेश में कहा गया कि उप-जिलाधिकारी घनश्याम वर्मा के कार्यों ने सरकार की छवि को नकारात्मक रूप से प्रभावित किया है और उन्हें लखनऊ में राज्य मुख्यालय से जोड़ा जाएगा। आगे की जांच बरेली के संभाग आयुक्त द्वारा की जाएगी।

क्या है पूरा मामला ?

मुरादाबाद जिले के बिलारी निवासी एक कारोबारी ने आरोप लगाया था कि फर्नीचर का बकाया 2 लाख 67 हजार रुपए मांगने पर उप-जिलाधिकारी ने उसके घर पर बुलडोजर चलवा दिया है। संभाग आयुक्त आंजनेय कुमार सिंह ने बताया था कि मेरे पास 11 जुलाई को शिकायत आई थी और इसमें मैंने जिलाधिकारी को निर्देश दिया है कि घटना की जांच करके मुझे सूचित करें। जिलाधिकारी को यह भी स्पष्ट किया गया है कि जांच एडीएम (अपर जिलाधिकारी) स्‍तर के अधिकारी से कराया जाए।

इसे भी पढ़ें: अब कर्नाटक में भी चलेगा बुलडोजर? CM बोम्मई का सख्त संदेश- अशांति न फैलाएं, जरूरत पड़ी तो लागू करेंगे 'योगी मॉडल' 

कारोबारी जाहिद अहमद ने कहा कि फर्नीचर के लिए लंबित भुगतान के अलावा मेरे घर को पहुंचाई गई क्षति की वजह से मुझे बड़ा नुकसान हुआ है। इसे कौन वहन करेगा ? हालांकि उप-जिलाधिकारी के निलंबन को लेकर कारोबारी ने कहा कि आज मुझे राहत मिली है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़