Odd-Even लागू होने के बाद ट्रैफिक हुआ कम, दूसरे दिन कटे दोगुने चालान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 6, 2019   08:13
  • Like
Odd-Even लागू होने के बाद ट्रैफिक हुआ कम, दूसरे दिन कटे दोगुने चालान

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कई लोगों को कल केवल सम-विषम नियम का पालन करने की चेतावनी दी गई और उनका चालान नहीं किया गया।

नयी दिल्ली। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने मंगलवार को दावा किया कि लोग पूरी निष्ठा के साथ सम-विषम नियम का पालन कर रहे हैं। हालांकि, इस नियम का उल्लंघन करने को लेकर दूसरे दिन काटे गये चालानों की संख्या बढ़ गई है। सिसोदिया ने कहा कि कई लोगों को कल केवल सम-विषम नियम का पालन करने की चेतावनी दी गई और उनका चालान नहीं किया गया।

इसे भी पढ़ें: परिवहन मंत्री ने ऑड ईवन के कार्यान्वयन की निगरानी के बाद किया ये ट्वीट

आधिकारिक आंकड़े के अनुसार मंगलवार को 562 चालान काटे गये। यातायात पुलिस ने 213, परिवहन विभाग ने 157 और राजस्व विभाग ने 192 चालान काटे। सम-विषम योजना के पहले दिन सोमवार को 271 चालान काटे गये थे। यह योजना 15 नवम्बर तक सुबह आठ बजे से रात आठ बजे तक लागू है। इस नियम का उल्लंघन करने पर चार हजार रुपये का जुर्माना लगाया जा रहा है। सम-विषम योजना को लागू कराने के लिए यातायात, परिवहन और राजस्व विभागों की कुल 465 टीमों को तैनात किया गया है।

सिसोदिया ने एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि दिल्ली पूरी निष्ठा के साथ सम-विषम योजना का पालन कर रही है। कई लोगों को कल केवल सम-विषम नियम का पालन करने की चेतावनी दी गई थी और उनका चालान नहीं किया गया था। उन्होंने कहा कि सम-विषम योजना का दूसरा दिन ‘‘बहुत सफल’’ रहा और वायु गुणवत्ता में सुधार आया है। उन्होंने कहा कि धुंध का संकट धीरे-धीरे कम हो रहा है। हम स्थिति पर और मौसम की परिस्थितियों पर नजर रखे हुए हैं। उम्मीद है कि पराली जलाने का और धुआं दिल्ली में नहीं आयेगा।

इसे भी पढ़ें: ऑड इवन ने दौरान दिल्ली सरकार 2000 CNG बसें किराए पर लेगी

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि लोग बहुत खुश हैं क्योंकि वे सड़कों पर यातायात कम होने से आसानी से अपने गंतव्यों तक पहुंच सकते हैं। यह प्रदूषण कम करने में भी मददगार है। सम विषम की परीक्षा बुधवार को होगी जब दो दिन की छुट्टी के बाद स्कूल खुलेंगे। दिल्ली में वायु प्रदूषण की वजह से स्कूल मंगलवार तक के लिए बंद थे। मुख्मयंत्री अरविंद केजरवाल ने कहा था कि जिन गाड़ियों में स्कूल के बच्चे होंगे, उन्हें छूट दी जाएगी। सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी का दावा है कि सम-विषम योजना के कारण 15 लाख वाहन सड़कों से बाहर हो गये।

दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने इस योजना की निगरानी के लिए कई स्थानों का दौरा किया। गहलोत ने ट्वीट किया: दिल्ली की सड़कों पर विषम संख्या के वाहनों को देखकर खुशी हुई।’’ एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘‘हम सभी को कार पूलिंग/साझा करने को प्रोत्साहित करना चाहिए।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


किसानों ने खारिज किया सरकार का प्रस्ताव, कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े

  •  अंकित सिंह
  •  जनवरी 21, 2021   20:59
  • Like
किसानों ने खारिज किया सरकार का प्रस्ताव, कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े

लगभग साढ़े पांच घंटे चली 10वें दौर की वार्ता के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार ने एक से डेढ़ साल तक इन कृषि कानूनों को निलंबित करने का प्रस्ताव किसानों समक्ष रखा ताकि इस दौरान सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिध आपस में चर्चा जारी रख सकें और दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसान इस कड़ाके की ठंड में अपने घरों को लौट सकें।

प्रदर्शनकारी किसान संघों ने तीनों कृषि कानूनों को 18 महीने के लिए निलंबित करने के सरकार के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है। संयुक्त किसान मोर्चा के वक्तव्य में कहा कि किसान यूनियन और सरकार बात करके समाधान ढूंढ सकते हैं। एएनआई के मुताबिक किसान नेता जोगिंदर सिंह उगराहां ने कहा कि सरकार जब तक कृषि क़ानूनों को वापस नहीं लेती, सरकार का कोई भी प्रस्ताव स्वीकार नहीं किया जाएगा। कल हम सरकार को कहेंगे कि इन क़ानूनों को वापस कराना, MSP पर क़ानूनी अधिकार लेना यही हमारा लक्ष्य है। हमने सर्वसम्मति से ये निर्णय लिया है।

आपको बता दें कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लगभग दो महीने से चल रहे किसान आंदोलन को समाप्त करने के एक प्रयास के तहत केंद्र सरकार ने बुधवार को आंदोलनकारी किसान संगठनों के समक्ष इन कानूनों को एक से डेढ़ साल तक निलंबित रखने और समाधान का रास्ता निकालने के लिए एक समिति के गठन का प्रस्ताव रखा। किसान नेताओं ने सरकार के इस प्रस्ताव को तत्काल तो स्वीकार नहीं किया लेकिन कहा कि वे आपसी चर्चा के बाद सरकार के समक्ष अपनी राय रखेंगे। अब 11वें दौर की बैठक 22 जनवरी को होगी। लगभग साढ़े पांच घंटे चली 10वें दौर की वार्ता के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार ने एक से डेढ़ साल तक इन कृषि कानूनों को निलंबित करने का प्रस्ताव किसानों समक्ष रखा ताकि इस दौरान सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिध आपस में चर्चा जारी रख सकें और दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसान इस कड़ाके की ठंड में अपने घरों को लौट सकें।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


पुंछ में पाकिस्तानी गोलीबारी में सेना का एक जवान शहीद, भारत ने दिया करारा जवाब

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   20:48
  • Like
पुंछ में पाकिस्तानी गोलीबारी में सेना का एक जवान शहीद, भारत ने दिया करारा जवाब

एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि सिंह एक बहादुर और ईमानदार सैनिक थे। उन्होंने कहा कि राष्ट्र हमेशा उनके सर्वोच्च बलिदान और कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए उनका ऋणी रहेगा।

जम्मू। पाकिस्तान ने संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए बृहस्पतिवार को जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास अग्रिम ठिकानों पर गोलीबारी की जिसमें सेना का एक जवान शहीद हो गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान सेना ने पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में एलओसी के पास बिना उकसावे के गोलीबारी की।

उन्होंने बताया कि भारतीय सेना ने पाकिस्तानी गोलीबारी का करारा जवाब दिया। अधिकारियों ने बताया कि गोलीबारी में सेना की 10 जेएके राइफल्स इकाई का हवलदार निर्मल सिंह शहीद हो गया। एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि सिंह एक बहादुर और ईमानदार सैनिक थे। उन्होंने कहा कि राष्ट्र हमेशा उनके सर्वोच्च बलिदान और कर्तव्य के प्रति समर्पण के लिए उनका ऋणी रहेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 2886 नये मामले, 52 की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   20:40
  • Like
महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 2886 नये मामले, 52 की मौत

महाराष्ट्रमें संक्रमण का पहला मामला करीब दस महीने पहले मार्च 2020 में सामने आया था। इन आंकड़ों के साथ देश में महाराष्ट्र ऐसा पहला प्रदेश बन गया है जहां संक्रमितों की संख्या 20 लाख से अधिक है।

मुंबई। महाराष्ट्र में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 2886 नये मामले सामने आये जिसके बाद प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा 20 लाख को पार कर गया। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि नये मामले सामने आने के बाद महाराष्ट्र में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़ कर 20,00,878 हो गयी है। महाराष्ट्रमें संक्रमण का पहला मामला करीब दस महीने पहले मार्च 2020 में सामने आया था। इन आंकड़ों के साथ देश में महाराष्ट्र ऐसा पहला प्रदेश बन गया है जहां संक्रमितों की संख्या 20 लाख से अधिक है। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में संक्रमण के कारण 52 और लोगों की मौत हुयी है जिसके बाद मरने वालों की संख्या 50,634 पर पहुंच गयी है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश में आज दिन में 3,980 मरीज संक्रमण मुक्त हुये हैं जिसके बाद प्रदेश में ठीक होने वाले संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 19,03,408 हो गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में फिलहाल 45,622 मरीजों का उपचार चल रहा है। अधिकारी ने बताया कि मुंबई शहर में 527 नये मामले सामने आये हैं जिसके बाद यहां संक्रमितों की कुल संख्या बढ़ कर 3,04,653 पहुंच गयी है। मुंबई में दस और लोगों की संक्रमण से मौत हो गयी जिसके बाद मरने वालों की संख्या बढ़ कर यहां 11,278 पर पहुंच गयी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept