मां ने अपनी ही बेटियों का करवाया रेप, सामान उधार देकर अपने जाल में फंसाता था आरोपी

मां ने अपनी ही बेटियों का करवाया रेप, सामान उधार देकर अपने जाल में फंसाता था आरोपी

TOI में छपी एक खबर के मुताबिक, दुकानदार ने न केवल दोनों बेटियों का रेप किया बल्कि उनकी वीडियो तक बनाई है। पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि, आरोपी दुकानदार के पास नाबालिग बच्चियों की कम से कम 50 से ज्यादा अश्लील वीडियो थी।

तमिलनाडु के चेन्नई से काफी खौफनाक और दिल दहला देने वाली खबर सामने आ रही है। बता दें कि दो सगी बहनों ने अपनी ही बेटियों को रेप करने के लिए दुकानदार को भेजा। जी हां, दुकान से सामान मिल सके इसके लिए मां ने अपनी ही बेटियों को दुकानदार से रेप करने की मंजूरी दी। TOI में छपी एक खबर के मुताबिक, दुकानदार ने न केवल दोनों बेटियों का रेप किया बल्कि उनकी वीडियो तक बनाई है। पुलिस ने जांच के दौरान पाया कि, आरोपी दुकानदार के पास नाबालिग बच्चियों की कम से कम 50 से ज्यादा अश्लील वीडियो थी। आरोपी दुकानदार 48 साल का है और उसके नाम की पहचान पेरुमल के रूप में की गई है। 

इसे भी पढ़ें: तमिलनाडु में कोविड-19 के 1,523 नये मामले, 21 मरीजों की मौत

क्या है पूरा मामला?

पुलिस के मुताबिक, दोनों बच्चियां दुकान की उधारी चुकाने के लिए दुकानदार के पास जाती थी और मां ने दुकानदार को शर्मनाक वीडियो बनाने तक की इजाजत दी। इसके अलावा दुकानदार ने 3 अन्य सहेलियों का भी रेप किया है।बता दें कि इस खौफनाक मामले का खुलासा तब हुआ जब पुलिस ने पाया कि दुकानदार बैन तंबाकू बेच रहा था जिसके बाद पुलिस ने दुकान में छापेमारी की। पुलिस को छापेमारी में तंबाकू और मोबाइल भी बरामद हुआ जिसमें नाबालिग बच्चियों के साथ की कई अश्लील वीडियो मिली। पहले पुलिस को लगा कि दुकानदार ने अश्लील वीडियो इंटरनेट डाउलोड किया है लेकिन पुलिस ने वीडियो में आरोपी को देखा तो पूछताछ शुरू की। दुकानदार ने पुलिस को बताया कि उसने अब तक 5 नाबालिग बच्चियों का रेप किया हुआ है। इस खुलासे के बाद पुलिस ने दुकानदार समेत दोनों बहनों को गिरफ्तार कर लिया है और उनके खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।