MP के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ईसाई मिशनरी स्कूल गंजबासौदा का करेंगे दौरा

MP के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ईसाई मिशनरी स्कूल गंजबासौदा का करेंगे दौरा

गंजबासौदा के दौरे के दौरान मुख्यमंत्री स्थिति का जायजा लेने के लिए जिला अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

भोपाल। मध्य प्रदेश के गंजबासौदा में हुए हंगामे के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बुधवार को विदिशा जिले के गंजबासौदा का दौरा करेंगे। जहां बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को एक ईसाई मिशनरी स्कूल में तोड़फोड़ की।

बताया जा रहा है कि वहां बजरंग दल के स्थानीय लोगों ने सेंट जोसेफ स्कूल में घुसकर पथराव किया और आरोप लगाया कि आठ हिंदू बच्चों को ईसाई धर्म में परिवर्तित कर दिया गया है।

ये भी जानकारी मिली है कि घटना के दौरान कक्षा 12 के कई छात्र अपनी परीक्षा के लिए स्कूल में मौजूद थे। सूत्रों ने कहा कि गंजबासौदा के दौरे के दौरान मुख्यमंत्री स्थिति का जायजा लेने के लिए जिला अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।

दरअसल राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) द्वारा इस मामले की जांच के लिए जिला प्रशासन को नोटिस जारी किए जाने के बाद आठ छात्रों के धर्म परिवर्तन का मामला पहली बार अक्टूबर में सामने आया था।

इसके बाद से ही वहां स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। रिपोर्टों से पता चलता है कि सेंट जोसेफ स्कूल में हिंसा होने से एक दिन पहले, बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने गंजबासौदा शहर में स्थानीय लोगों के साथ एक बैठक की और आठ हिंदू बच्चों के कथित धर्मांतरण के संदेश के साथ पर्चे वितरित किए गए। कार्यकर्ताओं ने सेंट जोसेफ स्कूल परिसर में घुसकर पथराव किया और एक घंटे से अधिक समय तक हंगामा किया। हालांकि छात्र और स्कूल स्टाफ बाल-बाल बच गए।

स्कूल प्रशासन ने हिंदू बच्चों के धर्म परिवर्तन से इनकार किया है। सेंट जोसेफ स्कूल 11 साल पहले स्थापित किया गया था और भोपाल स्थित मालाबार मिशनरी सोसाइटी द्वारा चलाया जा रहा है। स्कूल में करीब 1500 छात्र हैं। मंगलवार को स्थानीय पुलिस ने दावा किया था कि उसने स्कूल में पथराव और हिंसा फैलाने वाले चार-पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।