सांसद किरोड़ी मीणा ने फिर गहलोत सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 14, 2022   18:03
सांसद किरोड़ी मीणा ने फिर गहलोत सरकार पर साधा निशाना, कही यह बात
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

भाजपा के राज्यसभा सदस्य किरोड़ी मीणा ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी महात्मा गांधी के मूल्यों, लोकतंत्र और संविधान की बात करते हैं जबकि दूसरी ओर उन्होंने मुझे पुलिस के घेरे में कैद कर दिया है। उन्होंने कहा कि मैं प्रेस कॉन्फ्रेंस करना चाहता था, श्रीनाथजी मंदिर में प्रार्थना करना चाहता था, पुष्कर जाना चाहता था।

जयपुर। भाजपा के राज्यसभा सदस्य किरोड़ी मीणा ने शनिवार को एक बार फिर राज्य सरकार पर उनके अधिकारों का हनन करने का आरोप लगाया। मीणा ने चित्तौड़गढ़ जिले के निम्बाहेड़ा में संवाददाताओं से कहा, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी महात्मा गांधी के मूल्यों, लोकतंत्र और संविधान की बात करते हैं जबकि दूसरी ओर उन्होंने मुझे पुलिस के घेरे में कैद कर दिया है। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति गंभीर चिंता का विषय, चिदंबरम का मोदी सरकार पर निशाना 

उन्होंने कहा कि मैं प्रेस कॉन्फ्रेंस करना चाहता था, श्रीनाथजी मंदिर में प्रार्थना करना चाहता था, पुष्कर जाना चाहता था, लेकिन अनुमति नहीं दी गयी। यह तानाशाही (रवैया) है और मेरे लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन है।

राज्यसभा सदस्य मीणा ने कहा वह शनिवार को प्रतापगढ़ जिले के धरियावद कस्बे में आदिवासियों के एक सम्मेलन को संबोधित करेंगे। उल्लेखनीय है कि मीणा ने शुक्रवार को जयपुर में भी कहा था कि उन्हें उदयपुर नहीं जाने दिया जा रहा है जहां वे एक आदिवासी सम्मेलन में भाग लेना चाहते हैं। हालांकि बाद में पुलिस मीणा को लेकर निंबाहेड़ा पहुंची। मीणा अब धरियावद जाएंगे। 

इसे भी पढ़ें: लोकतंत्र की दुहाई देने वाले गहलोत ने मेरे अधिकारों का किया हनन, भाजपा सांसद ने पुलिस कार्रवाई को लेकर साधा निशाना 

उल्लेखनीय है कि उदयपुर में कांग्रेस का तीन दिवसीय सम्मेलन चल रहा है। पुलिस मीणा को बृहस्पतिवार को ही उदयपुर से जयपुर लेकर आई थी। मीणा ने शनिवार को ट्वीट किया, मेरे आदिवासी भाई बहनों से मिलने धरियावद पहुंच रहा हूं। आदिवासी सम्मेलन जाने से मुझे कोई रोक नहीं सकता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।