बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी कोरोना संक्रमित, बैरक में पृथकवास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 27, 2021   15:04
बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी कोरोना संक्रमित, बैरक में पृथकवास

बांदा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. एन.डी. शर्मा ने मंगलवार को बताया कि बांदा की जेल में बंद मुख्तार अंसारी के शनिवार को एंटीजन जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद रविवार को आरटीपीसीर जांच में भी संक्रमण की पुष्टि हुई है।

बांदा (उप्र)। उत्तर प्रदेश के बांदा की जेल में बंद बसपा विधायक मुख्तार अंसारी आरटीपीसीर जांच में भी संक्रमित पाए गए हैं। इसके पहले शनिवार को एंटीजन जांच में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद अंसारी को जेल की बैरक संख्या-16 में ही पृथकवास किया गया है। हालांकि, अभी उपचार की शुरुआत नहीं हुई। बांदा के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. एन.डी. शर्मा ने मंगलवार को बताया कि बांदा की जेल में बंद मुख्तार अंसारी के शनिवार को एंटीजन जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद रविवार को आरटीपीसीर जांच में भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी लगातार अंसारी के स्वास्थ्य की निगरानी कर रहे हैं, फिलहाल उन्हें जेल की बैरक संख्या-16 में ही पृथकवास किया गया है।

इसे भी पढ़ें: प्रियंका ने योगी को लिखा को लिखा पत्र, कहा- भावी पीढ़ियां आपको माफ नहीं करेंगी

राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. मुकेश कुमार यादव ने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि के बाद चिकिसकों का दल मुख्तार अंसारी के स्वास्थ्य की लगातार निगरानी कर रहा है। उन्होंने कहा, संक्रमण की पुष्टि के बाद भी अंसारी में कोरोना के प्राथमिक लक्षण नहीं मिले, फिर भी वो जेल की बैरक में ही पृथकवास पर हैं। वहीं, कारागार के प्रभारी अधीक्षक प्रमोद त्रिपाठी ने कहा, कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद मुख्तार अंसारी को बैरक संख्या-16 में ही पृथकवास किया गया है। फिलहाल उनकी स्थिति सामान्य है। उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय के आदेश पर सात अप्रैल की सुबह मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने पंजाब की रूपनगर (रोपड़) जेल से बांदा की जेल में स्थानांतरित किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...