मुंबई पुलिस ने 55 साल से ज्यादा उम्र के कर्मियों से छुट्टी पर जाने को कहा, जानें पूरा मामला

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   13:51
मुंबई पुलिस ने 55 साल से ज्यादा उम्र के कर्मियों से छुट्टी पर जाने को कहा, जानें पूरा मामला

अधिकारी ने बताया कि उम्र के कारण, इन पुलिस कर्मियों को अधिक खतरा है। इसलिए, हम उन्हें इन दिनों के दौरान छुट्टी लेने की अनुमति दे रहे हैं। महाराष्ट्र में अब तक, कोरोना वायरस से 20 अधिकारियों सहित कम से कम 107 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं। उनमें से अधिकतर मुंबई के हैं।

मुंबई। मुंबई पुलिस ने अपने 55 साल से ज्यादा उम्र और पहले से किसी बीमारी से पीड़ित कर्मियों से छुट्टी पर जाने को कहा है ताकि उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण से बचाया जा सके। मुंबई में कोरोना वायरस से तीन कर्मियों की मौत के बाद यह कदम उठाया गया है। मुंबई पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि विश्लेषण में सामने आया है कि तीन मृत पुलिस कर्मी और एक अन्य पुलिस कर्मी जिनका संक्रमण का इलाज चल रहा है, वे 50 साल से ज्यादा उम्र के हैं। उन्होंने बताया कि इसे देखते हुए, हमने अपने उन पुलिसकर्मियों और अधिकारियों की रक्षा करने का फैसला किया है- जिनकी उम्र 55 वर्ष से अधिक है और पहले से किसी बीमारी से पीड़ित हैं। उन्हें छुट्टी पर जाने को कहा गया है। 

इसे भी पढ़ें: मुंबई में प्रवासी मजदूरों का प्रदर्शन, सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वाला एक व्यक्ति गिरफ्तार 

अधिकारी ने बताया कि उम्र के कारण, इन पुलिस कर्मियों को अधिक खतरा है। इसलिए, हम उन्हें इन दिनों के दौरान छुट्टी लेने की अनुमति दे रहे हैं। महाराष्ट्र में अब तक, कोरोना वायरस से 20 अधिकारियों सहित कम से कम 107 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं। उनमें से अधिकतर मुंबई के हैं। मुंबई पुलिस के 57 वर्षीय हेड कांस्टेबल की सोमवार को कोविड-19 से मौत हो गई। इसके अलावा, 52 वर्षीय हेड कांस्टेबल की रविवार को बीमारी के कारण मौत हो गई, जबकि 57 वर्षीय कांस्टेबल ने शनिवार को दम तोड़ दिया।

इसे भी देखें : Hotspots में ही बढ़ेगा 3 May के बाद Lockdown, PM Modi की मुख्यमंत्रियों के साथ लंबी चर्चा 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।