गैंगस्टर रवि पुजारी को 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज गया, मुंबई सेशंस कोर्ट में हुई पेशी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2021   15:07
  • Like
गैंगस्टर रवि पुजारी को 9 मार्च तक पुलिस हिरासत में भेज गया, मुंबई सेशंस कोर्ट में हुई पेशी

मुंबई पुलिस ने गैंगस्टर रवि पुजारी को बेगुलुरू से यहां लाने के बाद विशेष मकोका अदालत में पेश किया , जिसने उसे 2016 के गोलीबारी के एक मामले में नौ मार्च तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया।

मुंबई। मुंबई पुलिस ने गैंगस्टर रवि पुजारी को बेगुलुरू से यहां लाने के बाद विशेष मकोका अदालत में पेश किया , जिसने उसे 2016 के गोलीबारी के एक मामले में नौ मार्च तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया। पुजारी को पिछले साल फरवरी में दक्षिण अफ्रीका से भारत लाया गया था और बेंगलुरु की एक जेल में रखा गया था। वह कई वर्षों से फरार था।

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी बोले- जलवायु परिवर्तन बड़ी चुनौती, आपदा को सहने वाला आधारभूत ढांचा समय की मांग

कर्नाटक की एक अदालत ने 21 अक्टूबर, 2016 को मुंबई के विले पार्ले इलाके में गोलीबारी के एक मामले में गैंगस्टर पुजारी को मुंबई पुलिस को सौंपने की इजाजत दे दी थी, जिसके बाद पुलिस शनिवार को उसे लाने के लिए बेंगलुरु रवाना हुई थी। इस घटना के बाद महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण अधिनियम (मकोका) के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया था। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुजारी को मंगलवार सुबह सड़क के रास्ते बेंगलुरु से मुंबई लाया गया।

इसे भी पढ़ें: पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के पीछे हटने की खबर पर करीबी नजर : अमेरिका

इस मामले की जांच कर रही मुंबई पुलिस की उगाही रोधी प्रकोष्ठ ने उसे यहां की एक विशेष मकोका अदालत में विशेष किया। विशेष न्यायाधीश डी ई कोथालिकर ने पुजारी को नौ मार्च तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने बताया कि इस मामले में पुजारी के सात सहयोगी पहले से ही जेल में हैं। उन्होंने बताया कि कर्नाटक के उडुपी से ताल्लुक रखने वाला पुजारी विदेश से उगाही रैकेट चलाता था और कारोबारियों तथा फिल्म हस्तियों को निशाना बनाता था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


हरियाणा के कांग्रेस विधायकों ने किसानों के प्रति एकजुटता दिखाते हुए बांह पर काली पट्टी बांधी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 6, 2021   09:22
  • Like
हरियाणा के कांग्रेस विधायकों ने किसानों के प्रति एकजुटता दिखाते हुए बांह पर काली पट्टी बांधी

हरियाणा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के विधायकों ने शुक्रवार को यहां विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसानों के प्रति एकजुटता प्रकट करते हुए बांह पर काली पट्टी बांधी।

चंडीगढ। हरियाणा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के विधायकों ने शुक्रवार को यहां विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसानों के प्रति एकजुटता प्रकट करते हुए बांह पर काली पट्टी बांधी।

हालांकि राज्य के गृह मंत्री अनिल विज ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि विपक्षी दल के विधायकों को उस समय तो कम से कम काली पट्टियां उतार देनी चाहिये थीं, जब सदन में राष्ट्रगान और राष्ट्र गीत चल रहा था।

इससे पहले, पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस विधायक कथित किसान विरोधी नीतियों और ईंधन के बढ़ते दामों तथा ऊंचे करों के विरोध में लगभग दो किलोमीटर पैदल चलकर विधानसभा पहुंचे। इस दौरान विधायकों ने केन्द्र सरकार और उसके तीन कृषि कानूनों के खिलाफ नारेबाजी भी की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मध्य प्रदेश में कोरोना के चलते भोपाल-इंदौर में 8 मार्च से लग सकता है रात्रि कर्फ्यू

  •  दिनेश शुक्ल
  •  मार्च 6, 2021   00:01
  • Like
मध्य प्रदेश में कोरोना के चलते भोपाल-इंदौर में 8 मार्च से लग सकता है रात्रि कर्फ्यू

मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर में लंदन वैरिएंट से प्रभावित 6 मरीज मिले हैं। लंदन वैरिएंट का संक्रमण अधिक घातक है। इसकी संक्रामक क्षमता तुलनात्मक रूप से अधिक है। इंदौर में पिछले सप्ताह प्रतिदिन औसतन 151 प्रकरण बढ़े हैं।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भोपाल और इंदौर में कोरोना के प्रकरणों में लगातार वृद्धि हो रही है। मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग पर सख्ती जरूरी है। यदि अगले 3 दिन में कोरोना के प्रकरणों में गिरावट नहीं हुई तो 8 मार्च से भोपाल और इंदौर में रात्रि कर्फ्यू लगाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने यह निर्देश शुक्रवार को मंत्रालय में कोरोना की समीक्षा बैठक में दिए। बैठक में लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के 457 मरीज मिले, इंदौर में सबसे अधिक 176 कोरोना संक्रमित मिले

कोरोना का लंदन वैरिएंट अधिक घातक, इंदौर को कर रहा है प्रभावित

मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदौर में लंदन वैरिएंट से प्रभावित 6 मरीज मिले हैं। लंदन वैरिएंट का संक्रमण अधिक घातक है। इसकी संक्रामक क्षमता तुलनात्मक रूप से अधिक है। इंदौर में पिछले सप्ताह प्रतिदिन औसतन 151 प्रकरण बढ़े हैं। इसी प्रकार भोपाल में 78, जबलपुर में 16, बैतूल में 13 और छिंदवाड़ा व उज्जैन में 11-11 प्रकरणों की प्रतिदिन औसतन वृद्धि हुई है। इंदौर में पिछले 15 दिनों में प्रकरणों की संख्या दोगुनी हो गई है। इस गंभीरता को देखते हुए इंदौर और भोपाल में सावधानियाँ बरतना और सख्ती करना आवश्यक है।

मास्क नहीं लगाने पर होगी कार्यवाही

मुख्यमंत्री ने दुकानदारों से सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने, मास्क लगाने और अन्य सावधानियाँ बरतने की अपील की। उन्होंने कहा कि दुकानदार दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करें जो दुकानदार बिना मास्क के दुकान पर बैठेंगे या बिना मास्क लगाए व्यक्तियों को सामान देंगे उन पर कार्यवाही की जाएगी। साथ ही सामान्य तौर पर रोको-टोको के लिए भी भोपाल और इंदौर में तत्काल प्रभाव से अभियान आरंभ किया जाए।

 

इसे भी पढ़ें: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा किसान सम्मेलन के नाम पर नौटंकी कर रहे दिग्विजय सिंह

महाराष्ट्र से लगे जिलों पर लगातार निगरानी रखें

मुख्यमंत्री ने कहा कि भोपाल, इंदौर, जबलपुर, बैतूल, छिंदवाड़ा, उज्जैन और महाराष्ट्र से लगे जिलों में कोरोना से प्रभावित प्रकरणों की संख्या बढ़ रही है। प्रदेश में किसी भी हालत में स्थिति को बिगड़ने नहीं दिया जाए। महाराष्ट्र से आने वाले यात्रियों के लिए कोरोना निगेटिव की रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा। इसकी जवाबदारी बस ऑपरेटरों की होगी। बस ऑपरेटर रिपोर्ट के आधार पर ही यात्रियों को बस में प्रवेश दें। राज्य की सीमा पर पुख्ता चैकिंग की व्यवस्था की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि महाराष्ट्र सीमा से लगे सभी जिलों पर लगातार निगरानी रखी जाए।

स्कूल, कॉलेजों में जागरूकता पर ध्यान दें

मुख्यमंत्री ने उच्च शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी शासकीय तथा गैर-शासकीय शैक्षणिक संस्थाओं में मास्क का उपयोग अनिवार्य किया जाए। इसके लिए जागरूकता अभियान भी चलाएँ।


सामाजिक संगठन दें टीकाकरण केन्द्रों पर सुविधाएँ

मुख्यमंत्री ने कहा कि टीकाकरण केन्द्रों पर सभी आवश्यक सुविधाएँ सुनिश्चित की जाएँ। बुजुर्गों सहित सभी व्यक्तियों के बैठने की व्यवस्था, शेड, पेयजल, व्हील-चेयर और टीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन के लिए पर्याप्त व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जाये। उन्होंने सामाजिक संगठनों से टीकाकरण केन्द्रों पर चाय, पानी, शरबत आदि की व्यवस्था करने की अपील की।

टीकाकरण के साथ दें मार्गदर्शी कार्ड

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिनका टीकाकरण हो रहा है, उन्हें प्रमाण-पत्र के साथ-साथ एक मार्गदर्शी कार्ड भी उपलब्ध कराया जाए, जिसमें अगले टीकाकरण की तिथि, सामान्य जानकारियाँ और आवश्यक सावधानियों के संबंध में उल्लेख हो।

 

इसे भी पढ़ें: शहीद लक्ष्मीकांत द्विवेदी का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

मार्च अंत तक 5595 केन्द्रों पर होगा टीकाकरण

बैठक में जानकारी दी गई कि वर्तमान में 469 केन्द्रों पर टीकाकरण जारी है। ग्यारह मार्च से 1808 केंद्रों पर टीकाकरण आरंभ हो जाएगा और इस माह के अंत तक 5595 केंद्रों पर टीकाकरण की सुविधा का विस्तार किया जाएगा। अब तक 3 लाख 66 हजार 528 हेल्थ केयर वर्कर्स और 3 लाख 2 हजार 165 फ्रंट लाईन वर्कर्स को प्रथम डोज़ का टीका लग चुका है। साठ साल से अधिक आयु वर्ग के प्राथमिकता वाले आयु समूह के एक लाख 3 हजार 911 व्यक्तियों को भी टीका लगाया जा चुका है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


शहीद लक्ष्मीकांत द्विवेदी का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

  •  दिनेश शुक्ल
  •  मार्च 5, 2021   23:48
  • Like
शहीद लक्ष्मीकांत द्विवेदी का राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

छोटी उम्र में उन्होंने भारत माता की सेवा में अपने प्राण न्यौछावर कर दिये हैं। उनके परिवार की पूरी देखरेख की जायेगी। शहीद द्विवेदी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए विधायक राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि हमें स्वर्गीय द्विवेदी के जाने का दुःख है, तो उनकी शहादत पर गर्व भी है।

भोपाल। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में शहीद हुए मध्य प्रदेश के रीवा जिले के ग्राम बरछा ककरहा के वीर सपूत लक्ष्मीकांत द्विवेदी का शुक्रवार को उनके गृह ग्राम में पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण राज्यमंत्री रामखेलावन पटेल ने शहीद को श्रद्धा सुमन अर्पित किये। उन्होंने शहीद के घर जाकर परिजनों को सांत्वना दी। उन्होंने कहा कि शहीद के परिवार को मध्य प्रदेश सरकार की ओर से एक करोड़ रुपये की राशि, एक मकान तथा परिवार के एक सदस्य को नौकरी दी जायेगी।

 

इसे भी पढ़ें: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा किसान सम्मेलन के नाम पर नौटंकी कर रहे दिग्विजय सिंह

उन्होंने कहा कि वीर सपूत लक्ष्मीकांत द्विवेदी ने अदम्य साहस का परिचय दिया। उनकी शहादत को हम सब नमन करते हैं। मध्य प्रदेश सरकार वीर सपूत के परिजनों के साथ खड़ी है। परिवार की सुरक्षा और देखभाल की जिम्मेदारी हमारी है। शहीद लक्ष्मीकांत की शहादत की खबर सुनकर मुख्यमंत्री चौहान ने मुझे, पूर्व मंत्री तथा विधायक राजेन्द्र शुक्ल, विधायक श्यामलाल द्विवेदी तथा विधायक प्रदीप पटेल को भेजा है।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के 457 मरीज मिले, इंदौर में सबसे अधिक 176 कोरोना संक्रमित मिले

सांसद जनार्दन मिश्र ने वीर सपूत को श्रद्धा सुमन अर्पित किये। उन्होंने कहा कि विन्ध्य के सपूत ने हम सबका मान बढ़ाया है। छोटी उम्र में उन्होंने भारत माता की सेवा में अपने प्राण न्यौछावर कर दिये हैं। उनके परिवार की पूरी देखरेख की जायेगी। शहीद द्विवेदी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए विधायक राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि हमें स्वर्गीय द्विवेदी के जाने का दुःख है, तो उनकी शहादत पर गर्व भी है। उन्होंने भारत माँ की सेवा में नक्सलियों से संघर्ष करते हुए अपने प्राणों का बलिदान किया है। विन्ध्य के सपूत का यह बलिदान सदैव याद रखा जायेगा। उनके परिवार को सरकार की ओर से हर संभव सहायता दी जायेगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept