'अपनी सरकार आएगी तो बता देंगे', चालान कटने पर अशरफ ने पुलिस को सरेआम दी धमकी, अब हुआ ये हाल

'अपनी सरकार आएगी तो बता देंगे', चालान कटने पर अशरफ ने पुलिस को सरेआम दी धमकी, अब हुआ ये हाल

बीजेपी नेता संबित पात्रा ने इस वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा कि इन्हीं 20% मानसिकता वालों के खिलाफ उत्तर प्रदेश की 80% जनता की लड़ाई है। वीडियो उत्तर प्रदेश के संभल का बताया गया है और ये घटना 13 जनवरी, 2021 (गुरुवार) की बताई जा रही है।

उत्तर प्रदेश के संभल जिले में पुलिस वालों को धमकी देते एक शख्स का वीडियो खूब वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में शख्स पुलिस द्वारा चलान काटे जाने पर पुलिसवाले को अपनी सरकार आने की धमकी देते हुए नजर आ रहा है। बीजेपी नेता संबित पात्रा ने इस वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा कि इन्हीं 20% मानसिकता वालों के खिलाफ उत्तर प्रदेश की 80% जनता की लड़ाई है। वीडियो उत्तर प्रदेश के संभल का बताया गया है और ये घटना 13 जनवरी, 2021 (गुरुवार) की बताई जा रही है।

इसे भी पढ़ें: यूपी चुनाव के लिए भाजपा की पहली सूची जारी, गोरखपुर शहर से योगी आदित्यनाथ को टिकट, केशव मौर्य भी लड़ेंगे चुनाव

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार चंदौसी चौराहे पर चेकिंग के दौरान वेशभूषा से मुस्लिम समुदाय का प्रतीत होता शख्स बिना हेलमेट के जा रहा था तब उसे रोका गया। पुलिसकर्मी ने हेलमेट न लगाने पर चालान करने की बात कही तो वो भड़क गया।  व्यक्ति पुलिसकर्मी को धमकी देता है कि जितना बढ़ाकर चालान कट सके उतना बढ़ा कर काट लें, वह बाद में ‘बताएगा’। इसके जवाब में पुलिसकर्मी जब उससे पूछता है कि बाद में क्या वह पुलिसवाले को खा जाएगा? तो व्यक्ति कहता है। “यह तो वक्त बताएगा, जब सरकार आएगी। ये जो तुम लोग अपनी मनमानी कर रहे हो। सरकार आने पर वक्त बता देगा, या तो संभल में आप नहीं रहोगे या हम नहीं रहेंगे।”

मामले पर संभल पुलिस ने लिया संज्ञान

मामले का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों की तरफ से ट्रैफिक पुलिसवाले को धमकाने वाले शख्स पर कार्रवाई की मांग उठने लगी। जिसके बाद इस बाबत संभल पुलिस ने ट्विट करते हुए कहा कि वीडियो का संज्ञान लिया गया है, कोतवाली सम्भल पुलिस द्वारा जांच की जा रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार वीडियो में दिखने वाले शख्स की पहचान कर ली गई है और अशरफ नाम के इस आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।