मुसलमान घर से निकलकर सभा में जाएं, राहुल की महापंचायत के लिए मस्जिद से फतवा!

Rahul
अभिनय आकाश । Feb 19, 2021 6:55PM
मकराना के सुन्नी जामा मस्जिद के इमाम मौलाना समसुद्दीन कादरी यह कहते सुनाई पड़ रहे हैं। वो कह रहे हैं कि 13 फरवरी को सुबह 11 बजे अपने काम वगैरह बंद करके राज पब्लिक स्कूल के पास सभा स्थल पर पहुंचकर अपनी जिंदादिली का सबूत पेश करें और एकजुटता का परिचय दें।

राजनीति का एक दौर था जब लोकनायक जय प्रकाश नारायण के भाषणों को सुनने के लिए लोगों का हुजूम उमर पड़ता था। अटल बिहारी वाजपेयी जब बोलते थे तो सारा जमाना दम साध कर उन्हें सुनता था। लेकिन बदलते वक्त के साथ राजनेताओं की रैलियों में भीड़ जुटाने के लिए अलग-अलग तरह के हथकंडे अपनाए जाने लगे। लेकिन इन तमाम कवायदों से आगे अब तो भीड़ जुटाने के लिए मौलानाओं की मदद लेने की कवायदें भी शुरू हो गई है। एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिसमें एक मौलाना को मस्जिद से फतवा जारी करते हुए सुना जा रहा है जिसमें वो मुसलमान को राहुल गांधी की सभा में शामिल होने की बात कह रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: उन्नाव की घटना को लेकर कांग्रेस का आरोप, विफल मुख्यमंत्री साबित हो रहे हैं योगी

समाचार चैनल जी न्यूज ने यह वीडियो दिखाया है जिसमें मकराना के सुन्नी जामा मस्जिद के इमाम मौलाना समसुद्दीन कादरी यह कहते सुनाई पड़ रहे हैं। वो कह रहे हैं कि 13 फरवरी को सुबह 11 बजे अपने काम वगैरह बंद करके राज पब्लिक स्कूल के पास सभा स्थल पर पहुंचकर अपनी जिंदादिली का सबूत पेश करें और एकजुटता का परिचय दें। ये इसलिए भी जरूरी है कि आपके सिर पर 2025 की तलवार लटक रही है। जनाब राहुल गांधी, हमारे राजस्थान मुख्यमंत्री जनाब अशोक गहलोत साहब और खनन विभाग के मंत्री और दूसरे मिनिस्टर लोग तशरीफ ला रहे हैं। आप जानते हैं कि हमारे मुल्क में जो बीजेपी हुकूमत जो वो लोग काम कर रहे हैं वो सारी चीजों पर निगाह रखते हैं कि मुसलमान कहां से खा रहा है। कैसे जी रहा है इन तमाम स्रोत को बंद करने की नापाक कोशिश हो रही है। 

इसे भी पढ़ें: राहुल और प्रियंका गांधी सहित कई नेताओं ने सतीश शर्मा के निधन पर दुख जताया

गौरतलब है कि 13 फरवरी को राहुल गांधी का राजस्थान दौरा था। जिस दिन उन्होंने राजस्थान के अजमेर और नागौर में जनसभा किया। राहुल ने नागौर के मकराना में किसानों को संबोधित भी किया और केंद्र के कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना भी साधा और किसानों के साथ खड़े होने की बात भी कही। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़