'सत्ता गंवाने के बावजूद बरकरार है एमवीए', उद्धव ठाकरे बोले- मौजूदा चुनौती महामारी की तुलना में कुछ भी नहीं

Uddhav Thackeray
ANI Image
शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि उनकी पार्टी और एमवीए के सामने मौजूदा चुनौती महामारी की तुलना में कुछ भी नहीं है। एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बाद 29 जून को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद ठाकरे ने मंगलवार को पहली बार दक्षिण मुंबई में विधान भवन का दौरा किया।

मुंबई। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मंगलवार को कहा कि महाराष्ट्र में सत्ता गंवाने के बावजूद ‘महा विकास आघाड़ी’ (एमवीए) बरकरार है। शिवसेना,कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के गठबंधन से एमवीए बना है। एमवीए भागीदारों की बैठक के बाद यहां राज्य विधानमंडल परिसर में संवाददाताओं से बात करते हुए ठाकरे ने कहा कि उनकी सरकार ने कोरोना वायरस संकट का सफलतापूर्वक प्रबंधन किया।

इसे भी पढ़ें: पैगंबर टिप्पणी मामले में घिरी नुपुर शर्मा को मिला राज ठाकरे का साथ, ऐलान करते हुए कहा- मैं उनका समर्थन करता हूं 

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी और एमवीए के सामने मौजूदा चुनौती महामारी की तुलना में कुछ भी नहीं है। एकनाथ शिंदे के विद्रोह के बाद 29 जून को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद ठाकरे ने मंगलवार को पहली बार दक्षिण मुंबई में विधान भवन का दौरा किया। क्या तीनों दल एमवीए की छतरी के तले मुंबई नगर निकाय का चुनाव लड़ेंगे। इसके जवाब में ठाकरे ने कहा, ‘‘हम (एमवीए सहयोगी) लंबे समय के बाद मिले और अच्छा महसूस किया। हम अब भी साथ हैं। हम आपको जल्द ही बताएंगे कि हम क्या करने जा रहे हैं।’’ कांग्रेस स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ने को लेकर मुखर रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़