नागालैंड सरकार ने 15 जुलाई तक बढ़ाया लॉकडाउन, अंतरराज्यीय सीमाएं रहेंगी बंद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 29, 2020   21:02
नागालैंड सरकार ने 15 जुलाई तक बढ़ाया लॉकडाउन, अंतरराज्यीय सीमाएं रहेंगी बंद

राज्य सरकार ने इससे पहले विभिन्न अधिसूचनाओं के जरिये कृषि गतिविधियों, आवश्यक सामानों की आवाजाही, धार्मिक या सार्वजनिक स्थलों को खोलने और स्थानीय टैक्सी या ऑटोरिक्शा को खोलने के लिये रियायत दी थी।

कोहिमा। नागालैंड सरकार ने कोविड-19 महामारी का प्रसार रोकने के लिये प्रदेश में बंद को 15 जुलाई तक बढ़ा दिया है। सरकार के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। योजना और समन्वय तथा संसदीय मामलों के मंत्री ने इबा क्रोनू (जो कोविड-19 पर प्रदेश सरकार के प्रवक्ता भी हैं) ने कहा कि बंद को बढ़ाने का फैसला मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया। उन्होंने कहा कि प्रदेश मंत्रिमंडल ने व्यापक विचार-विमर्श और संबंधित जिलों के कोविड-19 कार्यबल की अनुशंसा के बाद मौजूदा बंद के उपायों को लेकर यथास्थिति बनाए रखने का फैसला किया। 

इसे भी पढ़ें: नागालैंड के राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र, कहा- सशस्त्र गिरोह चला रहे अपनी अलग सरकारें 

राज्य सरकार ने इससे पहले विभिन्न अधिसूचनाओं के जरिये कृषि गतिविधियों, आवश्यक सामानों की आवाजाही, धार्मिक या सार्वजनिक स्थलों को खोलने और स्थानीय टैक्सी या ऑटोरिक्शा को खोलने के लिये रियायत दी थी। क्रोनू ने कहा कि असम, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश से लगने वाली अंतरराज्यीय सीमाएं बंद रहेंगी और अंतरराज्यीय प्रवेश बिंदुओं पर तैनात पुलिसकर्मियों की संख्या बढ़ाई जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: नागालैंड में 12 सैन्य कर्मियों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि 

इसबीच प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री एस पांगन्यू फोम ने कहा कि नगालैंड में 18 सैन्यकर्मियों समेत 19 और लोग संक्रमित पाए गए हैं जिन्हें मिलाकर सोमवार को राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 434 पहुंच गई। उन्होंने बताया कि कुल 434 मामलों में से 266 मरीजों का इलाज चल रहा है जबकि 168 ठीक हो चुके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।