मध्य प्रदेश कांग्रेस में युवाओं का नेतृत्व करेगें पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के पुत्र नकुल नाथ

मध्य प्रदेश कांग्रेस में युवाओं का नेतृत्व करेगें पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के पुत्र नकुल नाथ

कांग्रेस के लोकसभा सांसद नकुल नाथ के इस बयान के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि चार माह पहले 20 मार्च को जब कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा था कि उन्हें दिग्विजय सिंह ने भरोसे में रखा था कि कोई विधायक कहीं नहीं जाएगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस के एकमात्र लोकसभा सांसद नकुल नाथ ने साफ कर दिया है कि आने वाले उप चुनावों में वह युवाओं का नेतृत्व करेगें। नकुल नाथ पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे और छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से सांसद है। भोपाल में मीडिया से बात करते हुए नकुल नाथ ने कहा कि कांग्रेस सरकार में मंत्री रहे युवा विधायक जीतू पटवारी, जयवर्धन सिंह, सचिन यादव, ओमकार मरकाम और हनी बघेल अपने-अपने क्षेत्रों में मेरे साथ काम करेंगे। जिसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के पुत्र और पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह ने कहा है कि नकुल नाथजी हमारे मध्य प्रदेश से इकलौते सांसद हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में इतनी विपरीत परिस्थतियों में वे जीतकर आए हैं। इससे उन्होंने अपनी क्षमता साबित की है। हम सब लोग कांग्रेस के युवा उनके साथ खड़े हैं, उनके पीछे खड़े हैं।

इसे भी पढ़ें: एमपी बोर्ड ने जारी किया 12वीं का परीक्षा परिणाम, पिछले साल की अपेक्षा कम पास हुए विद्यार्थी

वही दिग्विजय सिंह के पुत्र और पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह के जन्मदिन पर भोपाल में उन्हें भावी मुख्यमंत्री बताते हुए पोस्टर लगाए गए थे। बताया जाता है कि यह पोस्टर यूथ कांग्रेस द्वारा लगाए गए थे। इस पर लिखा था- ‘मध्य प्रदेश के ‘भावी मुख्यमंत्री’ जयवर्धन सिंह को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं, प्रदेश की शक्ति, कांग्रेस की शक्ति, युवा शक्ति। सोशल मीडिया पर यह पोस्टर वायरल होने के बाद भाजपा ने कांग्रेस पर निशाना साधना शुरू कर दिया था। इसके साथ प्रदेश में राजनीति गरमा गई थी। जिसके बाद पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह ने सिंधिया समर्थकों पर आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ थाने में शिकायत भी की थी। वही सांसद नकुल नाथ का बयान सामने आने के बाद अब कांग्रेस में प्रदेश नेतृत्व को लेकर दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों के बेटों में जोर-आजमाइश देखने को मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें: एमपी के छतरपुर में भीषण सड़क हादसा, आठ लोगों की गई जान

कांग्रेस के लोकसभा सांसद नकुल नाथ के इस बयान के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि चार माह पहले 20 मार्च को जब कांग्रेस की कमलनाथ सरकार गिरने के बाद एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा था कि उन्हें दिग्विजय सिंह ने भरोसे में रखा था कि कोई विधायक कहीं नहीं जाएगा। इस वजह से उनकी सरकार गिर गई। कमलनाथ के इस बयान के बाद सियासत गरमा गई थी। हालांकि, कमलनाथ ने दूसरे दिन अपने बयान पर कहा था कि उनके कहने का ऐसा आशय नहीं था। इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भाजपा और आरएसएस पर उनकी वर्षों पुरानी दोस्ती में दरार डालने का आरोप लगाया था। हालांकि, बयान देते समय नकुल नाथ ये बात भूल गए कि जिन विधायकों का नाम वे अपने साथ काम करने के लिए ले रहे हैं, वे उनसे काफी वरिष्ठ हैं। वही प्रदेश के गृहमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने नकुल नाथ द्वारा युवाओं के नेतृत्व करने पर तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस के अंदर युवाओं का नेतृत्व करेगें नकुल नाथ और बुजुर्गों का करेगें कमलनाथ बाकी कांग्रेस अनाथ। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।