कांग्रेस के चिंतन शिविर पर नरोत्तम मिश्रा का तंज, राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने पर होगी चिंता

कांग्रेस के चिंतन शिविर पर नरोत्तम मिश्रा का तंज, राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने पर होगी चिंता
ANI

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के चिंतन शिविर पर तंज कसा है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि यह चिंतन शिविर नहीं चिंता शिविर है तथा पार्टी को बचाने के लिए और राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष बनाने के लिए चिंता हो रही होगी।

राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का तीन दिवसीय चिंतन शिविर चल रहा है जिनमें देश और पार्टी के विभिन्न मसलों पर चर्चा की जा रही है। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के संबोधन के साथ ही इस चिंतन शिविर की शुरुआत हो गई है। तो वहीं कांग्रेस के चिंतन शिविर पर राजनीति भी तेज होती जा रही है। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के चिंतन शिविर पर तंज कसा है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि यह चिंतन शिविर नहीं चिंता शिविर है तथा पार्टी को बचाने के लिए और राहुल गांधी को फिर से अध्यक्ष बनाने के लिए चिंता हो रही होगी। आपको बता दें कि कांग्रेस के चिंतन शिविर में मध्यप्रदेश के भी वरिष्ठ नेता शामिल हो रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: UP के बाद अब मध्य प्रदेश के मदरसों में भी राष्ट्रगान होगा अनिवार्य? नरोत्तम मिश्रा ने दिए संकेत

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद मामले को लेकर भी नरोत्तम मिश्रा ने बयान दिया। नरोत्तम मिश्र ने कहा कि ज्ञानवापी मस्जिद के बारे में जो भी सच्चाई है, वह सबके सामने आना चाहिए। हमें भी तो पता होना चाहिए कि वहां मंदिर है या मस्जिद। उन्होंने कहा कि जो सच है वह आना चाहिए। चाहे असदुद्दीन ओवैसी हो या अन्य लोग हो, इसमें बौखलाहट और आक्रोश किस बात की है। इसके साथ ही कश्मीर में कश्मीरी पंडित राहुल भट की हत्या को लेकर भी उन्होंने कांग्रेस पार्टी पर प्रहार किया। उन्होंने कहा कि कश्मीरी पंडित राहुल भट की हत्या पर खुद को कश्मीरी पंडित कहने वाले राहुल गांधी जी और उनकी पार्टी पूरी तरीके से मौन है। उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस के तुष्टिकरण की नीति और असली चरित्र को पूरा देश देख रहा है। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के इस चुनाव में बीजेपी के साथ हाथ मिला NCP ने कांग्रेस के साथ कर दिया बड़ा खेल, पवार-पटोले के बीच छिड़ी जुबानी जंग

‘एक परिवार, एक टिकट’ की व्यवस्था बनाने पर विचार कर रही है कांग्रेस

अक्सर ‘परिवारवाद’ के आरोपों का सामना करने वाली कांग्रेस अब एक परिवार, एक टिकट की व्यवस्था बनाने पर विचार कर रही है। हालांकि इस प्रस्ताव को सहमति मिलने की स्थिति में इसके साथ यह प्रावधान भी होगा कि एक परिवार के किसी दूसरे सदस्य को टिकट तभी मिलेगा जब वह पार्टी के लिए कम से कम पांच साल तक काम करे। पार्टी महासचिव अजय माकन के अनुसार, चिंतन शिविर में चर्चा के लिए ‘एक परिवार, एक टिकट’ का प्रस्ताव आया है। उन्होंने ‘नवसंकल्प चिंतन शिविर’ के आरंभ होने से पहले कहा कि कांग्रेस ‘बड़े बदलाव’ की ओर देख रही है और इसके तहत संगठन की विभिन्न समितियों में युवाओं के लिए 50 प्रतिशत जगह आरक्षित करने, स्थानीय स्तर पर मंडल समितियां बनाने, पदाधिकारियों के कामकाज की समीक्षा के लिए एक आकलन इकाई बनाने और एक पद पर किसी व्यक्ति के लगातार पांच साल से ज्यादा नहीं रहने की व्यवस्था तय करने के प्रस्तावों पर विचार किया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...