सरकारी नौकरी के लिए NRA इस महीनें में करा सकती है पहला एगजाम

सरकारी नौकरी के लिए NRA इस महीनें में करा सकती है पहला एगजाम

नेशनल रिक्रूमेंट एजेंसी के गठन के साथ ही अब जल्द ही इसमें परीक्षा संबधित सभी महत्वपूर्ण प्रकिया को 2 महीनें में पूरा कर लिया जाएगा। बता दें कि सरकार की घोषणा के बाद आगे का रोडमैप तय करने की लिए पहल तेज हो गई है।

देश में युवाओं को सरकारी नौकरी के लिए अब इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। बता दें कि मोदी सरकार ने 20 अगस्त को बड़ा ऐलान करते हुए देश में भर्ती परीक्षा को मंजूरी दी है। यह भर्ती परीक्षा नेशनल रिक्रूमेंट एजेंसी है। इसी को देखते हुए नेशनल रिक्रूमेंट एजेंसी के गठन के साथ ही अब जल्द ही इसमें परीक्षा संबधित सभी महत्वपूर्ण प्रकिया को 2 महीनें में पूरा कर लिया जाएगा। बता दें कि सरकार की घोषणा के बाद आगे का रोडमैप तय करने की लिए पहल तेज हो गई है। DOPT के मुताबिक, एजंसी का गठन कर इसके मेंबर और बाकी चीजें महीने भर में तय की जाएगी। सूत्रों के मुताबिक, महामारी मामले के कम हो जाने के बाद अक्टूबर महीने के अंत तक एंजेसी की ओर से पहली परीक्षा को लेकर सूचना जारी कर सकती है। 

इसे भी पढ़ें: डिजिटल माध्यमों के जरिए NCC कैडेट्स को दिया जाएगा प्रशिक्षण, रक्षा मंत्री ने जारी किया ऐप

सूत्रों के मुताबिक, इस एजंसी में 10 सदस्यीय बोर्ड के आकार लेने के बाद अगल स्तर के बारे में विस्तार से जानकारी देगी। इसके तहत एसएससी  और बैंकिग बोर्ड को अगले लेवल के टेस्ट का प्रारूप भी तय करने होंगे। बता दें कि नई ऐंजंसी प्रारंभिक परीक्षा कराएगी, जिसके बाद अन्य एजेंसियां अपने हिसाब से परीक्षा कराएगी। सूत्रों के अनुसार, एगजाम कैसे होंगे, किस तरीके का पेपर होगा इन सभी के लिए एक्सपर्ट टीम बनाई जाएगी। इस प्रक्रीया से जुड़े एक अधिरकारी के मुताबिक, इस ऐंजेसी की घोषणा सरकार की बजट घोषणा में सम्मिलित था, इसलिए इसका वित्तीय साल में इसका गठन किया जाएगा  और सभी आधिकारिक चीजों को भी पूरा कर लिया जाएगा। 

गौरतलब है कि, कुछ दिन पहले ही इस ऐंजेसी का गठन किया गया था, इस ऐंजेसी के गठन से सरकारी परीक्षा को लेकर लागू होने वाले सिस्टम में दूसरा सबसे बड़ा रिफॉर्म माना जा रहा है। इससे पहले ही मोदी सरकार ने ग्रेड परीक्षाओं से इटंरव्यू को हटाने का बड़ा फैसला लिया था।                                                               





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।